मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नैनीताल, जेएनएन : भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल व विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन की सियासी बयानबाजी सरकार व प्रदेश संगठन के हस्तक्षेप से भले ही थम गई हो, मगर दोनों के रिश्तों के बीच तल्खी बरकरार है। विधायक देशराज ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर साफ कर दिया है कि अब वह न्याय के लिए कानूनी मोर्चें पर लड़ाई लड़ेंगे। हाई कोर्ट के उनके द्वारा दर्ज मुकदमे में एक माह में जांच रिपोर्ट मांगने के आदेश के बाद देशराज को न्याय की उम्मीद जगी है। उन्होंने साफ किया कि इस केस में विधायक चैंपियन निचली कोर्ट से अपना प्रार्थना पत्र वापस ले लेते तो वह याचिका में उन्हें पक्षकार नहीं बनाते। कहा कि हम दोनों सत्ता पक्ष के विधायक हैं, अब मामले में दूध का दूध और पानी का पानी होगा।

बुधवार को हाई कोर्ट पहुंचे विधायक देशराज ने कहा कि 12 साल पहले जब कोतवाल अमरजीत सिंह एसआइ थे, तब मुकदमे की चार्जशीट दाखिल की जा चुकी थी। बोले जगजाहिर है वह विधायक चैंपियन की पत्नी को वोट नहीं दे पाए, इसलिए उन्होंने अपने प्रभाव से जांच वापस करवा दी। बोले प्रणव मेरे बड़े भाई हैं। उनके द्वारा पहले मामले में अप्रत्यक्ष रूप से दबाव डाला गया, फिर निचली कोर्ट में प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया। सालों बाद जब जांच पूरी नहीं हुई तो अब जाकर वह न्याय के मंदिर पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें सरकार पर भी पूरा भरोसा है, सरकार अपना काम करेगी। मेरी अंतरात्मा ने कहा कि 12 साल से जांच चल रही है, न्याय नहीं मिला, इसलिए कोर्ट आ गया। उन्होंने साफ किया कि पार्टी फोरम में तय हुआ कि दोनों आपस में बयानबाजी नहीं करेंगे।

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप