रामनगर, जागरण संवाददाता : रामनगर में कोसी नदी में बच्‍चे के डूबकर मरने से स्‍वजनों में कोहराम मचा हुआ है। शुक्र रहा कि तीन लोगों को स्‍थानीय लोगों ने सक्रियता दिखाते हुए बचा लिया। मानसून सीजन में बार बार हादसे होने के बावजूद लोग चेत नहीं रहे हैं। जान जोखिम में डालकर नदी में नहाने उतरते हैं और फिर हादसे का शिकार हो जाते हैं। कोसी नदी के समीप झूलापुल कई हादसों का गवाह है। वन विभाग के चेतावनी बोर्ड के बाद भी लोग बेरोकटोक कोसी नदी में उतर रहे हैं, और हादसे का शिकार हो रहे हैं। अब तक कोसी नदी में नहाने के दौरान कई घरों के चिराग बुझ चुके हैं।

रामनगर से 10 किलोमीटर दूर रामनगर वन प्रभाग के अंतर्गत कोसी नदी पर झूलापुल है। इस झूलापुल में नहाने के दौरान पूर्व में कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। पहले वन विभाग ने तो अब गिरिजा पुलिस चौकी की ओर से झूलापुल के समीप कोसी नदी में नहीं जाने के लिए चेतावनी बोर्ड लगाए गए हैं। वन विभाग के कर्मचारी भी नदी क्षेत्र में घूमने वाले लोगों को रोकते हैं। रामनगर से बाहर से घूमने आने वाले लोग अक्सर नदी क्षेत्र में घूमने चले जाते हैं। नदी को देखकर वह नहाने के लिए उतर जाते हैं। कोसी नदी की गहराई व बहाव से अंजान लोग अक्सर नहाने के दौरान अपनी जान गंवा देते हैं। अब तक कई घरों के चिराग कोसी नदी में बुझ चुके हैं। इसके बावजूद इन घटनाओं पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। गिरिजा चौकी इंचार्ज मनोज नयाल ने बताया कि पुलिस नदी क्षेत्र में जाने वाले लोगों को रोकती है। चेतावनी बोर्ड भी लगाए हैं। इसके बावजूद लोग नदी में चले जाते हैं।

कोसी नदी में हादसों की बड़ी घटनाएं

नौ मार्च 2017 रामनगर निवासी फौजी की मौत।

30 अप्रैल 2018 रामपुर के सिडकुल कर्मी की मौत।

छह अप्रैल 2018 मुरादाबाद के सिपाही की मौत।

छह जुलाई 2019 काशीपुर के किशोर की मौत।

12 अप्रैल 2019 को मुरादाबाद के युवक की मौत।

13 अक्क्टूबर 2018 को दिल्ली की युवती की डूबने से मौत।

एक अक्टूबर 2019 नदी में युवक की मौत।

12 अगस्त 2021 कोसी नदी में दो युवकों की मौत।

19 सितंबर मुरादाबाद के किशोर की मौत।

Edited By: Skand Shukla