संवाद सूत्र, गंगोलीहाट (पिथौरागढ़) : भारी बारिश से पाताल भुवनेश्वर में भूस्खलन हो गया है। भूस्खलन से पाताल भुवनेश्वर गुफा को जाने वाले मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है और एक गेट भी टूट चुका है । मार्ग के निकट के खेत मलबे से पट चुके हैं।

शनिवार रात की भारी बारिश से पाताल भुवनेश्वर में भूस्खलन हो गया। भूस्खलन का मलबा पाताल भुवनेश्वर गुफा को जोडऩे वाले एकमात्र पैदल सम्पर्कमार्ग पर गिरा। बाजार और गुफा के बीच टीआरसी से पूर्व मार्ग पर बना गेट ध्वस्त हो गया है। मार्ग के पास ग्रामीणों के खेत मलबे से पट चुके हैं। यह जानकारी ग्राम प्रधान पाताल भुवनेश्वर राधा रावल और मंदिर कमेटी के अध्यक्ष नीलम भंडारी ने उपजिलाधिकारी बेरीनाग को दे दी है।

मुख्य पुजारी नीलम भंडारी ने बताया कि यह पाताल भुवनेश्वर गुफा तक पहुंचने वाला एकमात्र सम्पर्क मार्ग है। मार्ग बंद होने से गुफा तक पहुंचना मुश्किल हो रहा है। पाताल भुवनेश्वर बाजार से गुफा तक जाने वाले इस सम्पर्क मार्ग का पहला गेट टूटा है। ग्राम प्रधान और मंदिर कमेटी ने प्रशासन को इसकी सूचना देते हुए राजस्व टीम से क्षेत्र का मौका मुआयना करने की मांग की है।

भूस्खलन को लेकर गांव को भी खतरा बना है। सीमांत जिले में बारिश ने आफत मचा कर रखी है। जिले का शेष जगत से संपर्क कटा हुआ है। भूस्खलन से जगह-जगह मलबे आ गए हैं। उनको हटाने में लगी गाड़ियाें में तेल पहुंचाने तक की गुंजाइश नहीं है। बचाव व राहत कार्य भी बाधित हैं। सभी बारिश के कम होने व मौसम के खुलने का इंतजार कर रहे हैं। नदियां पर बने पुल भी तेज बहाव में बह गए हैं। आज की कंज्योति का पुल तेज धारा में बह गया है। विभाग ने सभी को खासकर नदी किनारे के लोगों को चेतावनी जारी कर सुरक्षित रहने की अपील की है। मौसम खुलने पर स्थिति सामान्य होगी।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra