किशोर जोशी, नैनीताल। कुमाऊं विवि का केंद्रीय पुस्तकालय अब नॉलेज रिसोर्स सेंटर के रूप मेें विकसित होगा। केंद्रीय पुस्तकालय में एक लाख 10 हजार ई-बुक्स खरीदने की तैयारी है। यह खरीद मानव संसाधन विकास मंत्रालय-यूजीसी के ई शोध सिंधु पोर्टल के माध्यम से की जाएगी। जिससे प्राध्यापक, शोधार्थी के साथ ही पीजी के छात्रों को एक क्लिक में अध्ययन व रिसर्च का अपडेट ज्ञान मिल जाएगा।

केंद्रीय पुस्तकालय में करीब 70 हजार पुस्तकें हैं। इसके अलावा 267 ई-बुक भी हैं। जो रसायन विभाग, भू विज्ञान, भौतिकी के अलावा चंद समाज शास्त्र की भी हैं। हाल ही में कुलपति प्रो. केएस राणा की ओर से लाइब्रेरी को अत्याधुनिक बनाने को लेकर समीक्षा बैठक की। साथ ही ई-बुक्स की खरीद के लिए एक समिति का गठन किया गया है। जिसके बाद समिति द्वारा वेब ऑफ साइंस साइटेशन इंडेक्स, बुक साइटेशन, इमरजिंग इंडेक्स आदि की खरीद की जाएगी। इसके तहत रिसर्च का परिणाम बढ़ाने, शोधार्थी व फेकल्टी तथा पीजी फाइनल के छात्रों के उपयोग के लिए ई-बुक्स खरीदी जाएंगी।

वेब ऑफ साइंस में मिलेगा अत्याधुनिक ज्ञान

केंद्रीय पुस्तकालय में वेब ऑफ साइंस के तहत मात्र तीन साइटेशन इंडेक्स, विज्ञान, कला व समाज शास्त्र की उपलब्धियों के बारे में जानकारी उपलब्ध रहेगी। सूचना वैज्ञानिक डॉ. युगल जोशी के अनुसार यह सुविधा केंद्रीय पुस्तकालय से डीएसबी परिसर स्थित लाइब्रेरी, अल्मोड़ा परिसर में उपलब्ध रहेगी। प्राध्यापकों समेत शोधार्थियों को नए शोध व नई तकनीकी जानकारियों के बारे में घर बैठे की ज्ञान मिल जाएगा। यहां बता दें कि अब तक प्राध्यापक व शोधार्थियों को नैनो टेक्नोलॉजी, माइक्रो बॉयोलॉजी आदि जैसे नए विषयों के उत्कृष्टï शोधों व शोध पेपर्स के बारे में जानकारी का अभाव था। वीसी डॉ. केएस राणा ने बताया कि केंद्रीय पुस्तकालय में ई-बुक्स की खरीद के लिए समिति का गठन किया गया है। ई बुक्स से शोधार्थियों के साथ ही प्राध्यापकों को नए विषयों व शोध निष्कर्षों के बारे जानकारी मिल सकेगी। इससे आम छात्रों को लाभ होगा।

यह भी पढ़ें : मिशन चंद्रयान-2 : चंद्रमा के अंधियारों में छुपे रहस्यों को खोजेगा प्रज्ञान

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप