दीप चंद्र बेलवाल, हल्द्वानी : हल्द्वानी जेल कैदियों के जीवन में सुधार की राह पर है। जेल प्रशासन ने कैदियों में चित्रकला का अद्भुत हुनर विकसित किया है। अपने गुनाहों की सजा भुगत रहे कैदियों ने ऐसे चित्र बनाए हैं जो कुछ समय बाद बाजार में बिकने को तैयार होंगे।

हल्द्वानी उपकारागार में माहौल बदल चुका है। जेल में बैठकर समय बिताने वाले कैदी अपनी प्रतिभा दिखा रहे हैं। किसी न किसी काम में माहिर कैदियों के हुनर को जेल प्रशासन प्रोत्साहित कर रहा है। इनका उद्देश्य कैदी को सही मार्ग पर ले जाना व आत्मनिर्भर बनाना है। जेल में तमाम कैदियों को चित्रकला के गुर सिखाए जा रहे हैं।

हफ्ते में दो दिन कैदियों की कक्षा चलती है। जहां पर एकजुट होकर पोस्टर तैयार किए जाते हैं। कैदियों ने राम-सीता, शिवशंकर, राधा-कृष्ण के साथ की प्राकृतिक सौंदर्य को कागज पर उकेरा है। जेल प्रशासन चित्रकला का हुनर दिखाने वालों के लिए किसी खास मौके पर जेल में ही प्रदर्शनी आयोजित करेगा। साथ ही चित्रों को अधिकारियों के दफ्तरों व बैरकों के बाहर लगाया जाएगा।

जेल अधीक्षक सतीश सुखीजा ने बताया कि कैदियों को हुनरमंद बनाने के प्रयास लगातार जारी हैं। इन दिनों कुछ कैदी चित्रकला में हाथ आजमा रहे हैं। चित्रकला को बेहतर मंच देने के प्रयास जारी किए जा रहे हैं। अच्छे पोस्टरों को दीवारों पर लगाया जाएगा।

कबीर ने बनाया राधा-कृष्ण का चित्र

जेल में अपने गुनाह की सजा भुगत रहे कैदीअब्दुल कबीर चित्रकला में हाथ आजमा रहा है। दूसरे समुदाय का कबीर सामाजिक सौहार्द की मिसाल पेश कर रहा है। उसने राधा-कृष्ण का शानदार चित्र बनाया है।

Edited By: Skand Shukla