हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : रात नौ बजे करीब एंबुलेंस से नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृदयेश का पार्थिव शव घर पहुंचते ही मौजूद हर शख्स की आंखें नम हो गई। राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी, सांसद अजय भट्ट, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल, मेयर डा. जोगेंद्र सिंह रौतेला समेत पक्ष-विपक्ष के नेता भी सांत्वना देने के लिए आवास पहुंचे थे। साथ ही व्यापारिक व सामाजिक संगठनों के लोग भी। वहीं, नेता प्रतिपक्ष के पुत्र सुमित हृदयेश संकट की इस घड़ी में भी समर्थकों को ढांढस बंधाते नजर आए। सोमवार सुबह डा. इंदिरा की अंतिम यात्रा रानीबाग स्थित चित्रशीला घाट को रवाना होगी। इससे पूर्व स्वराज आश्रम में लोग उनके अंतिम दर्शन कर सकेंगे।

दिल्ली में हृदयगति रुकने से नेता प्रतिपक्ष का निधन हो गया था। जिसके बाद एंबुलेंस से उनके शव को हल्द्वानी लाया गया। रास्ते में कई जगहों सड़क किनारे उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए समर्थक खड़े थे। लिहाजा, एंबुलेंस के घर पहुंचने में देरी हो गई। वहीं, रविवार सुबह इस घटना की सूचना मिलने के बाद से आवास पर लोगों का जुटना शुरू हो गया था। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, कांग्रेस प्रदेश महासचिव महेश शर्मा, पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हेमंत द्विवेदी, अब्दुल मतीन सिद्दीकी, सुहैल सिद्दीकी, कांग्रेस महानगर अध्यक्ष राहुल छिम्वाल समेत राजनैतिक व गैर राजनैतिक लोग भी बड़ी संख्या में मौजूद थे।

हमें आपके जीवन पर गर्व है मां

अंत तो सभी का आता है लेकिन इस जीवन में क्या करा। यह ज्यादा महत्वपूर्ण है। हमें आपके जीवन पर गर्व है मां। नेता प्रतिपक्ष के बेटे सुमित हृदयेश की फेसबुक पोस्ट पर हर कोई नेता प्रतिपक्ष के काम और व्यक्तित्व की चर्चा कर उन्हें कमेंट के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा था। वहीं, सीएम तीरथ सिंह रावत भी आज आवास पहुंचेंगे।

इंदिरा के नारों से गूंज उठी सड़क

समर्थकों की भीड़ देख पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी व्यवस्था बनाने में जुटे थे। नैनीताल रोड पर दोनों तरफ वाहनों की कतार लगी थी। जिसके बाद पुलिस ने आवास की तरफ बैरिकेड लगा लोगों से पैदल ही आने की अपील की। वहां नेता प्रतिपक्ष जिंदाबाद-अमर रहे के नारे सड़क तक गूंज रहे थे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Skand Shukla