गणेश पांडे, हल्द्वानी : आयकरदाताओं की सहूलियत के लिए आयकर विभाग ने सात जून को नई वेबसाइट जारी की। दस दिन बाद भी वेबसाइट नियमित रूप से नहीं चल रही। इस कारण आयकर रिटर्न फॉर्म डाउनलोड करने व ऑडिट रिपोर्ट अपलोड करने वाले कुमाऊं के हजारों आयकरदाताओं के काम अटक गए हैं।

जून में अब तक न तो एक रिटर्न फाइल हो सका है और न ही कोई रिपोर्ट अपलोड हुई है। कई अहम रिटर्न व रिपोर्ट फाइल करने की तारीख नजदीक है। टैक्स अधिवक्ताओं व सीए का कहना है कि नए बैंक लोन व कंपनी एक्ट के तहत ऑडिट रिपोर्ट फाइल करने जैसे अहम काम अटक गए हैं। आयकर विभाग ने शहर में हजारों आयकरदाताओं से नए पोर्टल पर डिजिटल सिग्नेचर रजिस्टर कराने को कहा है, लेकिन वेबसाइट में इसका पॉपअप तक नहीं बना है। ऐसे में मुश्किल आना स्वाभाविक है।

नई वेबसाइट की जरूरत इसलिए

-टैक्स अकाउंट 26एएस में डिमांड या रिफंड कितना है। शेयर व म्यूचुअल फंड की बिक्री से प्राप्त पूंजी रिटर्न में स्वत: दिखने लगे।

-आयकर व जीएसटी रिटर्न के डेटा एक जगह दिखे, ताकि रिटर्न दाखिल करना आसान व अधिक पारदर्शी हो।

-करदाता को यूपीआइ व डेबिट-क्रेडिट कार्ड से बकाया टैक्स जमा कराने की सुविधा मिले और बैंक जाकर चालान बनवाने की झंझट न रहे।

यह काम हो रहे प्रभावित

टीडीएस रिपोर्ट: एक करोड़ से अधिक टर्नओवर वाले व्यक्ति, ट्रस्ट, सोसायटी, कॉरपोरेशन व पार्टनरशिप फर्म को टीडीएस रिपोर्ट फाइल करनी होती है। इसकी अंतिम तिथि 30 जून है।

ऑडिट रिपोर्ट: कुल टर्नओवर से 8 प्रतिशत से कम लाभ और एक करोड़ से ज्यादा टर्नओवर वाली फर्मों को ऑडिट रिपोर्ट फाइल करनी होती है। हालांकि यह कार्य पूरे साल चलता है।

आयकर रिटर्न: ढाई लाख से अधिक आय वाले व्यक्ति, कंपनियों व पार्टनरशिप फर्म को आयकर रिटर्न भरना होता है। इसकी अंतिम तिथि बढ़ाकर 30 सितंबर कर दी गई है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट रोहित नौला का कहना है कि आयकर विभाग की साइट सही से काम नहीं कर रही। पूरे दिन बफरिंग चलती रहती है। आगे भी ऐसा ही होता रहा तो 30 जून की अंतिम तारीख तक सैकड़ों लोग टीडीएस व ऑडिट रिपोर्ट फाइल नहीं कर पाएंगे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra