रामनगर, जेएनएन : वन विभाग ने ड्रोन की मदद से उपखनिज का अवैध स्टॉक पकड़ा। स्टॉक में एक लाख क्विंटल उपखनिज अधिक पाया गया। स्टॉक सीज कर उसके संचालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है। उपखनिज चोरी कर लाए एक डपर को भी सीज किया गया।

तराई पश्चिमी वन प्रभाग के अंतर्गत रामनगर रेज के करमपुर बडुवा में दाबका स्टोन क्रशर के नाम से स्टॉक है। वन विभाग को पिछले कुछ दिनों से स्टॉक में अवैध उपखनिज की खरीद-फरोख्त की सूचना मिल रही थी। विभाग ने ड्रोन की मदद से कोसी नदी से उपखनिज की चोरी करके निकले डंपर पर नजर रखनी शुरू की। डपर जहा से भी गुजरा, पीछे से वनकर्मियों की टीम तो ऊपर से ड्रोन डपर की मॉनिटरिग करता रहा। जैसे ही डपर छोई के स्टॉक में घुसा तो रगे हाथ पकड़ने के लिए डीएफओ हिमाशु बागरी ने रेजर संतोष पंत व उनकी टीम के साथ छापा मार दिया। डपर स्टॉक में चोरी का उपखनिज उतारते हुए पकड़ा गया।

सूचना पर तहसीलदार पूनम पंत भी स्टॉक पर पहुच गई। डीएफओ बागरी ने बताया कि स्टॉक बिना अनुमति के चल रहा था। नापजोख कराई गई तो 10800 घनमीटर उपखनिज पाया गया। जिसमें से 6052 घनमीटर उपखनिज अवैध है। फर्जी बिल भी मिले है। स्टॉक संचालक के खिलाफ कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। गौरतलब है कि वन विभाग ने उपखनिज की चोरी पकड़ने के लिए इन दिनों ड्रोन कैमरे की मदद लेना शुरू किया है। ड्रोन के जरिए उपखनिज के स्टॉक का भी आंकलन किया जाता है। अवैध खनन और निर्धारित स्टॉक से अधिक होने पर कार्रवाई की जाती है।

यह भी पढ़ें : उत्‍तराखंड में विमान हादसा टला, लैंडिंग के दौरान रनवे से आगे बढी फ्लाइट 

यह भी पढ़ें : विदेश से नैनीताल आए लोगों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया, 14 दिन आइसोलेट रहेंगे

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस