जागरण संवाददाता, नैनीताल : नैनीताल जिले के रामगढ़ ब्लाक में निर्माणाधीन एप्पल गार्डन में ठेकेदारों ने न केवल बांज व चीड़ के पेड़ काटकर इमारती लकड़ी बना डाली बल्कि गार्डन की भूमि से ही अवैध तरीके से पत्थर खुदान कर दीवार निर्माण किया जा रहा है। स्थानीय लोगों की ओर से वीडियो वायरल हुई तो सरकारी तंत्र की आंख खुली। डीएम धीराज गब्र्याल ने इस मामले में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की टीम बनाकर संयुक्त निरीक्षण कराया तो अवैध खनन के साथ ही अवैध तरीके से पेड़ काटने पुष्टिï हुई। जिसके बाद वन विभाग ने ठेकेदारों पर एक लाख का जुर्माना लगाया। अब खनन विभाग भी अवैध खनन पर जुर्माने का आकलन कर रहा है।

रामगढ़ ब्लाक में जिलाधिकारी के प्रयास से उद्यान विभाग की भूमि पर एप्पल गार्डन तैयार किया जा रहा है। मकसद है कि हिमाचल की प्रजातियों के सेब का बागान यहां तैयार किया जाए। साथ ही स्थानीय बागवान भी प्रेरित हों। डीएम ने उद्यान विभाग को गार्डन तैयार करने के लिए दस लाख से अधिक बजट आवंटित कर दिया। उद्यान विभाग ने लोनिवि को गार्डन तैयार करने का जिम्मा दिया। पिछले दिनों एप्पल गार्डन के आसपास बांज व चीड़ के पेड़ का अवैध कटान किया गया तो स्थानीय युवाओं ने इसकी वीडियो बना ली। फोटो भी इंटरनेट मीडिया में वायरल कर दिए। मामला डीएम तक पहुंचा तो उन्‍होंने तत्काल कार्रवाई के आदेश दिए।

वन विभाग के रेंजर मुकुल शर्मा, डिप्टी रेंजर दीप जोशी मौके पर पहुंचे तो अवैध रूप से बांज व चीड़ के पेड़ बिना अनुमति काटने की पुष्टि हुई। जिस पर वन विभाग ने ठेकेदार पर एक लाख का जुर्माना लगा दिया। बुधवार को तहसीलदार नंदकिशोर पांडे के साथ उद्यान विभाग, खनन विभाग व वन विभाग के अधिकारियों की टीम मौके पर पहुंची तो पैमाइश करने पर 348 घनमीटर क्षेत्र में अवैध तरीके से अवैध खनन की पुष्टिï हुई। तहसीलदार ने बताया कि खनन विभाग द्वारा आकलन कर जुर्माना लगाने की रिपोर्ट डीएम को भेजी जाएगी। जिला उद्यान अधिकारी भावना जोशी के अनुसार अवैध खनन व अवैध पेड़ कटान के लिए जिम्मेदार लोनिवि भी है।

Edited By: Skand Shukla