धारचूला, जेएनएन : उच्च हिमालयी दारमा, व्यास और चौदास घाटी में होम स्टे को बढ़ावा देने की कवायद प्रारंभ हो रही है। इसी माह 29 नवंबर को कुमाऊं मंडल विकास निगम की होम स्टे को लेकर नई योजना का मंडलायुक्त अरविंद ह्यांकी लांच करने जा रहे हैं। उस चौदास घाटी के प्रवेश द्वार पांगू में एक दिवसीय शिविर में होम स्टे योजना की समीक्षा भी होगी।

उच्च हिमालयी दारमा, व्यास और चौंदास तीनो घाटियां सड़कों से जुड़ चुकी हैं। ग्लेशियरों , बुग्यालों, नदी ,झरनों , ऊं पर्वत, आदि कैलास, पंचाचूली ग्लेशियर से लेकर अति सुरम्य और पर्वतारोहण के लिए प्रसिद्ध इन घाटियों में होम स्टे व्यवस्था चलने लगी है। पंचाचूली ग्लेशियर बेस कैंप में केएमवीएन पूर्व से ही होम स्टे बना चुका है। केएमवीएन की पहल पर दुग्तू, दांतू में विगत तीन चार वर्षो से होम स्टे संचालित हो रह्रे हैं। इस समय सबसे अधिक पर्यटक भी पंचाचूली ग्लेशियर बेस कैंप पहुंचते हैंं। मंडलायुक्त अरविंद ह्यांकी द्वारा होम स्टे व्यवस्था को काफी प्रोत्साहित किया गया है।

 

इधर अब व्यास घाटी में लिपूलेख तक सड़क बन चुकी है। कुटी तक वाहन चलने लगे हैं शीघ्र ही आदि कैलास भी सड़क से जुडऩे जा रहा है। व्यास घाटी के नाबी गांव में पूर्व से ही होम स्टे बन चुके हैं। कैलास मानसरोवर यात्री यात्रा में जाते समय एक रात्रि नाबी के होम स्टे में प्रवास करते हैं। आने वाले समय में उच्च हिमालयी गांव पूरी तरह होम स्टे में तब्दील होने वाले हैं।

 

ग्रामीणों की आजीविका के पुख्ता साधन बनने जा रहे हैं। इसी क्रम में 29 नवंबर को पांगू में मंडलायुक्त अरविंद ह्यांकी एक दिवसीय शिविर लगाएंगे। इस मौके पर केएमवीएन होम स्टे के लिए एक स्कीम लागू करने जा रही है। इस स्कीम के तहत होम स्टे के लिए एक कमरा और शौचालय निर्माण के लिए साठ हजार की धनराशि और कमरे को सजाने के लिए 25 हजार की धनराशि मिलने वाली है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस