मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नैनीताल, जेएनएन। हाई कोर्ट ने हरिद्वार के भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनके द्वारा दर्ज रिपोर्ट पर 2007 से अब तक जांच पूरी नहीं होने को बेहद गंभीरता से लिया है। आज मामले के विवेचक रिकॉर्ड के साथ पेश हुए।
न्यायाधीश न्यायमूर्ति शरद कुमार शर्मा की एकलपीठ ने मामले में सुनवाई करते हुए आईजी गढ़वाल को निर्देश दिए हैं कि एक माह के भीतर जांच पूरी कर रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जाय। कोर्ट ने पूछा है कि अभी तक जांच पूरी नहीं होने के क्‍या कारण रहे। झबरेड़ा हरिद्वार के बीजेपी विधायक देशराज ने तीन लोगों के खिलाफ 2007 में प्रथम सूचना रिपोर्ट रुड़की में दर्ज कराई थी। आरोप लगाया कि विपक्षियों द्वारा उनके राशन कार्ड व परिवार रजिस्टर के कागजात फर्जी बनाकर संयुक्त मजिस्ट्रेट मजि‍स्ट्रेट के समक्ष पेश किये । जांच करने पर पाया गया कि पेश किये गए कागजात फर्जी हैं। जिस पर पुलिस द्वारा जांच की गयी और एक चार्जशीट बनाकर अपने उच्च अधिकारी को सौंप दी, परन्तु अधिकारी द्वारा इस चार्जशीट को निरस्त कर दोबारा से जांच करने को कहा परन्तु 12 साल बीत जाने के बाद भी अभी तक तक इस मामले में पुलिस द्वारा जांच पूरी नहीं की गई।
याचिकाकर्ता का कहना है कि यह देरी लंढोरा के विधायक कुंवर चैंपियन द्वारा अपने लोगों को बचाने के लिए की जा रही है ।ये लोग विधायक के करीबी लोग हैं। नैनीताल पहुंचे विधायक कर्णवाल ने कहा कि अब उन्हें इस मामले में न्याय की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें : हरदा ने सीएम पर किया कटाक्ष, बोले चुनाव में सीएम रावत की उपेक्षा से मुझे तकलीफ हुई

यह भी पढ़ें : भाजपा की पूर्व महिला प्रदेश अध्यक्ष मंजू तिवारी को कांग्रेस ने राष्ट्रीय सचिव बनाया

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप