जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : वेक्टर बॉर्न डिजीज ने पांव पसार लिए हैं। मच्छर, पिस्सू व मक्खी से होने वाली बीमारियों में डेंगू, चिकनगुनिया व जापानी इंसेफ्लाइटिस मुख्य है। एसटीएच में अब तक 28 मरीज सामने आ चुके हैं। इनकी संख्या लगातार बढ़ रही है। इनमें से नैनीताल जिले में ही आठ मरीज हैं। इसके बावजूद न तो स्वास्थ्य विभाग और न ही प्रशासन सक्रिय नजर आ रहा है।

तेजी से फैलने वाली मच्छरजनित संक्रामक बीमारियों को लेकर महज औपचारिकता नजर आ रही है। केवल दिखावे भर के लिए कुछ जगह फॉगिंग व छिड़काव कर दिया जा रहा है, लेकिन अधिकांश प्रभावित क्षेत्रों में टीम नहीं पहुंच रही है। जबकि, पिछले वर्षो में लालकुआं के अलावा बैलपड़ाव, कालाढूंगी समेत पर्वतीय क्षेत्रों से भी इन बीमारियों के मरीज उपचार को पहुंचे। इस वर्ष भी मरीजों का अस्पताल पहुंचने का सिलसिला जारी है। इसके बावजूद तंत्र की ठोस पहल नहीं दिख रही है। आज रिपोर्ट मिली है

सीएमओ डॉ. भारती राणा ने बताया कि हमें आज रिपोर्ट मिली है। कोटाबाग क्षेत्र में कल टीम भेजी जाएगी। इसके अलावा अन्य जगहों पर भी टीम भेजी जाएगी। लगातार छिड़काव व फॉगिंग किया जा रहा है। सीएमओ को निर्देशित किया गया है

डीएम वीके सुमन ने बताया कि सीएमओ को निर्देशित किया गया है। वह अपना काम कर रहे हैं। जागरूकता के लिए अभियान और तेज किया जाएगा। बीमारियों से बचने को रहें जागरूक

हल्द्वानी : डेंगू, चिकनगुनिया, जापानी इंसेफ्लाइटिस व मलेरिया से बचाव के लिए एहतियात बरतने की जरूरत है। डॉक्टरों का कहना है कि अगर हर व्यक्ति जागरूक होगा। खुद का बचाव करेगा तो गंभीर बीमारियों से बच सकता है। फिर भी बीमारी होने पर डरने के बजाय समय पर उपचार करा लेना चाहिए। डेंगू बुखार के लक्षण

ठंड के साथ बुखार आना

हाथ-पैर में चकते होना

उल्टी-दस्त

पेट में भारीपन होना चिकनगुनिया के लक्षण

तेज बुखार आना

सिर में दर्द होना

जोड़ों में दर्द होना

चकत्ते पड़ना जेई के ये हैं लक्षण

- बुखार- सिरदर्द

- गर्दन में जकड़न

- कमजोरी और उल्टी होना

- पागलपन की स्थिति होना मलेरिया के लक्षण

एक दिन छोड़कर बुखार आना

बहुत ज्यादा ठंड लगना

पीलिया भी हो सकता है

बेहोशी छा जाना इन बातों का रखें ध्यान

घरों व आसपास पानी जमा न होने दें

मच्छरदानी का उपयोग करें

पूरे बदन के कपड़े पहनें

शुद्ध पानी पीये

खुद न लें दर्द निवारक गोली

Posted By: Jagran