नैनीताल, [जेएनएन]: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है। उनका कहना है कि नौ हजार करोड़ के कर्जदार शराब कारोबारी को सुविचारित और सुनियोजित तरीके से लंदन भागने दिया गया। उन्होंने कहा कि आर्थिक अपराधी के साथ सरकार की सांठगांठ है। इतना ही नहीं उन्होंने वित्त मंत्री का इस्तीफा मांगते हुए माल्या के प्रकरण को सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की मांग की है।  

नैनीताल क्लब में मीडिया से मुखातिब हुए हरीश रावत ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने चुटकी ली कि मोदी भी अब कौमी एकता की महत्ता समझ रहे हैं जबकि उनकी नीतियां में यह कभी नहीं झलका। रावत ने कहा कि पहली बार राज्य और केंद्र में ऐसी सरकार है जो सिर्फ बात करती हैं। साढ़े चार साल के कार्यकाल में सरकार एक भी काम धरातल पर नहीं उतार सकी। इसके साथ ही उन्होंने राफेल घोटाले को लेकर भी सरकार को कटघरे में खड़ा किया। 

यह भी पढ़ें: मिशन-2019 के लिए ये है बीजेपी का हार्इटेक फॉर्मूला 

यह भी पढ़ें: सभी संत एकजुट होकर करें धर्म की रक्षा: महंत नरेंद्र गिरी 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस