हल्द्वानी, जेएनएन : केंद्र सरकार के आम बजट में 2024 तक हर घर नल, हर घर पानी पहुंचाने के दावे से नैनीताल जनपद के लोगों की जलसंकट दूर होने की आस जग गई है। तराई, भाबर व पहाड़ की विषम भौगोलिक परिस्थितियों वाले इस जिले में अब भी आधे घरों तक पानी नहीं पहुंचा है। इन घरों के लोग अब भी नौले-धारे और प्राकृतिक स्रोतों से पानी ढोकर अपना गुजारा कर रहे हैं।

नैनीताल जिले के पर्वतीय इलाकों में रहने वाले अधिकांश गांवों में अब तक पानी की लाइन नहीं बिछाई गई है। यहां के लोग दूरदराज से नौले, धारों, प्राकृतिक स्रोतों, सार्वजनिक नल व हैंडपंपों से पानी ढोकर लाते हैं। वहीं केंद्र सरकार ने सौभाग्य योजना के अंतर्गत हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा किया था, जिसके तहत ऊर्जा निगम ने नैनीताल जिले में अपना लक्ष्य पूरा करने का दावा किया है। निगम के मुताबिक, वर्तमान में जनपद में 246419 कनेक्शन दिए जा चुके हैं, जबकि जलसंस्थान के रिकार्ड में 125190 ही पेयजल कनेक्शन जनपद में हैं। इस हिसाब से अब तक आधे घरों में पानी नहीं पहुंच पाया है। ये लोग अब भी दूरदराज से पानी ढो रहे हैं। जलसंस्थान के अफसरों के मुताबिक, पहाड़ तक पानी लिफ्ट कर पेयजल योजना बनानी काफी महंगी पड़ती है। साथ ही रखरखाव भी काफी होता है। अगर सरकार ने धन उपलब्ध कराया तो पेयजल योजनाएं बनाकर हर घर में पानी उपलब्ध कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें : बजट पर अन्नदाताओं ने जताई नाखुशी, कहा - जैविक खेती के लिए कोई घोषणा नहीं

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप