जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : बताशों में मिठास घोलने के लिए मशहूर हल्द्वानी के 115 वर्षीय लल्लन मियां का रविवार को इंतकाल हो गया। उनके बताशे और नाम कुमाऊंभर में काफी मशहूर थे। कांग्रेस नेता सुमित हृदयेश समेत कई लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। वोटर आईडी के मुताबिक 2011 में उनकी उम्र 105 साल थी। जिसके मुताबिक अब उनकी उम्र 115 साल हो चुकी है।

बनभूलपुरा लाइन नंबर दो आजादनगर में लल्लन मियां कई सालों से बताशे बनाने का कारोबार करते थे। अब उनके पोते गुलाम वारिश हसन इस कारोबार को आगे बढ़ा रहे हैं। स्वजनों के अनुसार 115 साल के लल्लन उम्र के इस पड़ाव में भी 14 घंटे काम करते थे। उन्हें नैनीताल ही नहीं, बल्कि पूरे कुमाऊं से व्यापारी चीनी देकर खिलौने और बताशे बनाने का आर्डर देते थे। दीवाली पर उनके बताशे की डिमांड कई गुना बढ़ जाती थी। रविवार तड़के पांच बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। लल्लन के निधन की सूचना पर राजनीतिक और सामाजिक लोगों का उनके आवास पर शोक संवेदना जताने के लिए तांता लगा रहा।

जापान के नाम दर्ज है सबसे अधिक उम्र जीने का रिकार्ड

बता दें कि अब तक ज्ञात इतिहास में सबसे अधिक उम्र तक जीने वाले व्यक्ति जापान के जिरोमोन किमुरा का 116 वर्ष की उम्र में 2012 में देहांत हो गया था। तब जापान सरकार ने बयान जारी करते हुए कहा था कि जिरोमोन किमुरा की क्योटो के एक अस्पताल में प्राकृतिक कारणों से मृत्यु हो गई। तब गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड ने भी किमुरा की पहचान अब तक सबसे अधिक उम्र तक जीने वाले व्यक्ति के रूप में की थी। तब जिरोमोन किमुरा के परिवार में सात बच्चे, 14 नाती-पोते, और 25 परनाती-परपोते और उनके 13 बच्चे शामिल थ। उनका जन्‍म जन्म 19 अप्रैल, 1897 में हुआ था

Edited By: Skand Shukla