नानकमत्ता, जागरण संवाददाता : पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक रविवार को उत्‍तराखंड के नवनियुक्‍त राज्यपाल सेवानिवृत्त ले. जनरल गुरमीत सिंह और मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी नानकमत्‍ता पहुंचे। इस दौरान उन्‍होंने गुरुद्वारा साहिब में मत्‍था टेका और लंगर छकने के बाद बाद बर्तन धुलकर व झाड़ू लगाकर सेवा की।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने राज्‍यपाल की जिम्‍मेदारी मुझे सौंपकर सिख समुदाय का मान बढ़ाया है। मैं पूरी कोशिश करूंगा कि अपनी जिम्‍मेदारियों का निष्‍ठापूर्वक निर्वहन कर सकूं। राज्यपाल ने कहा कि वह बनबसा में वह लेफ्टिनेंट जनरल रहे हैं। इससे पहले भी नानकमत्ता श्री गुरुद्वारा साहिब आकर आर्शीवाद लेते रहे हैं। कहा कि उन्हें अच्छा लगा कि राज्यपाल बनने के बाद वह मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ गुरुद्वारा पहुंचे और शीश नवाया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यह उनका गृह क्षेत्र है। खटीमा से विधायक हैं और आज सीएम हैं। कहीं न कहीं गुरु की कृपा है, जो इतनी बड़ी जिम्मेदारी उन्हें मिली है। इसके लिए गुरु घर का आभारी हूं। इससे पहले राज्यपाल गुरमीत सिंह और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी श्री गुरुनानक एकेडमी स्कूल परिसर में बने हैलीपेड में सुबह 9:40 बजे पहुंचे। जहां पर सितारगंज विधायक सौरभ बहुगुणा, नानकमत्ता विधायक प्रेम सिंह राणा, रुद्रपुर विधायक राजकुमार ठुकराल, किच्छा विधायक राजेश शुक्ला समेत तमाम लोगों ने उनका स्वागत किया। साथ ही गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी नानकमत्त के प्रधान सेवा सिंह ने राज्यपाल गुरमीत सिंह को सरोपा भेंटकर स्वागत किया।

बाद में राज्यपाल और मुख्यमंत्री सुरक्षा व्यवस्था के बीच कार से गुरुद्वारे पहुंचे और गुरुद्वारा साहिब में जाकर मत्था टेक गुरु का प्रसाद ग्रहण किया। धार्मिक स्थल पीपल साहिब, भंडारा साहिब और पवित्र सरोवर में पांच स्नान किया। लंगर हाल में राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने लंगर के बर्तन साफ कर सेवा की। साथ ही लंगर का प्रसाद ग्रहण किया। पीपल साहिब में झाडू की सेवा की।

Edited By: Skand Shukla