जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : Government School Reopen in Uttarakhand :राज्य सरकार ने कोविड मानकों का पालन करते हुए दो अगस्त से स्कूल खोलने के आदेश दिए हैं, लेकिन मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) समय पर जारी नहीं होने के कारण स्कूल खोलने को लेकर असमंजस है। फिलहाल बिना तैयारी के सरकारी स्कूल तो खुलेंगे, मगर निजी स्कूल बंद रहेंगे।

सरकार की एसओपी के तहत कक्षा नौ से 12 तक के विद्यालय चार घंटे खुलने हैं। 50 फीसद ही उपस्थिति होनी चाहिए। एसओपी 31 जुलाई की रात तक उपलब्ध हो सकी। एक अगस्त को रविवार हो गया। इसलिए विद्यालयों में एसओपी के आधार पर व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं हो सकी हैं। सरकारी स्कूल खुल तो जाएंगे। कितने बच्चे बुलाए जाएंगे? समय क्या रहेगा? कितनी पालियों में कक्षाएं चलेंगी? फिलहाल कुछ भी स्पष्ट नहीं है। वहीं अधिकांश निजी स्कूल संचालकों ने फिलहाल स्कूलों को बंद रखने का ही निर्णय लिया है।

शारीरिक दूरी का पालन कराना चुनौती

स्कूल खुल जाएंगे, लेकिन शारीरिक दूरी का पालन कैसे हो पाएगा? इसे लेकर स्कूल संचालक भी असमंजस में हैं। जबकि 50 फीसद बच्चों को ही बुलाया जाना है। ऐसे में बच्चों को स्कूल समय में हर समय अलग-अलग बैठाए रखना संभव नहीं है।

डिग्री कॉलेजों के लिए नहीं आई एसओपी

राजकीय डिग्री कॉलेजों के लिए एसओपी जारी नहीं हो सकी है। इसलिए डिग्री कॉलेज भी दो अगस्त से नहीं खुल सकेंगे। एमबीपीजी कॉलेज के प्राचार्य प्रो. बीआर पंत ने बताया कि जैसे ही एसओपी आ जाएगी। उसी आधार पर विद्यार्थियों को बुला लिया जाएगा।

नहीं पूरी हो सकी तैयारी

खंड शिक्षा अधिकारी हरेंद्र मिश्रा का कहना है कि एसओपी देर से मिली। इसलिए पूरी तैयारी नहीं हो सकी। दो अगस्त को स्कूल खुल जाएंगे। शाम तक तैयारी पूरी कर ली जाएगी। इसी आधार पर एसओपी के तहत सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करा ली जाएंगी। पब्लिक स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष, कैलाश भगत ने बताया कि एसओपी देर से मिली है। इस आधार पर व्यवस्था बनाने में सप्ताह भर का समय लग जाएगा। इसके चलते फिलहाल स्कूल बंद रहेंगे। कोविड नियमों का पूरी तरह पालन करवाने का पूरा प्रयास रहेगा।

Edited By: Skand Shukla