हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : Bad Image of Uttarakhand Police: उत्तराखंड पुलिस चर्चा में है। यह चर्चा किसी अच्छे काम से नहीं, बल्कि महकमे के ही कुछ कारिंदों की हरकतों से हो रही है, जिसके कारण मित्र पुलिस का दर्जा रखने वाली उत्तराखंड पुलिस की वर्दी पर बेहद गहरे और गंदे दाग लग गए हैं। यह दाग कभी मिटने वाले भी नहीं हैं।

बात महिला सुरक्षा की ही करें तो उत्तराखंड पुलिस इस पर काफी जोर दे रही है, मगर महकमे के ही कुछ 'अपनों' की हरकतों ने सुरक्षा की जगह महिलाओं के मन में असुरक्षा का भाव पैदा कर दिया है, जिससे मित्रता, सेवा, सुरक्षा के संदेश पर लोग अंगुली उठाने लगे हैं। बात जब भी महिला सुरक्षा और पुलिस की भूमिका की होगी तो ये घटनाएं जरूरी सवाल उठाएंगी। यहां चर्चा ऐसी ही कुछ घटनाओं की।

केस 1 : रुद्रपुर से हल्द्वानी आते समय छेड़खानी

22 नवंबर 2022 को हुई इस घटना ने हर किसी काे चौंका दिया था। हल्द्वानी के मुखानी क्षेत्र में रहने वाली महिला ने पुलिस को बताया था कि वह ऊधमसिंह नगर में पंजाब एंड सिंध बैंक की कर्मी है। बीते मंगलवार शाम छह बजे वह गदरपुर से रुद्रपुर पहुंची। रुद्रपुर से बस में हल्द्वानी के लिए निकली। बस जब बेलबाबा के पास पहुंची तो पिछली सीट पर बैठा युवक उसके बगल में आकर बैठ गया और पैरों से गलत हरकत कर छेड़छाड़ करने लगा।

  • इस पर उसने पुलिस के टोल फ्री नंबर 1090 पर काॅल किया। साथ ही बस को ट्रांसपोर्ट नगर पुलिस चौकी के पास रुकवा दिया। बस रुकते ही आरोपित फरार हो गया।
  • महिला से छेड़छाड़ करने वाला यह आरोपित 46 वाहिनी पीएसी रुद्रपुर में तैनात है और इसका नाम ललित चंद्र है। बाद में उस पर छेड़छाड़ की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया। साथ ही इसकी रिपोर्ट मुख्यालय भेज दी गई।

केस 2 : छात्रा ने लगाए छेड़खानी के आरोप

यह घटना महिला से छेड़खानी की घटना के अगले दिन यानी 23 नवंबर 2022 को हुई। जब एक पुलिस कर्मी बस में सवार छात्रा से गंदी हरकत कर बैठा। कालाढूंगी निवासी इस छात्रा ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि वह एमबीपीजी काॅलेज में बीएससी की छात्रा है। कॉलेज जाने के लिए सुबह घर से बस में बैठी तो उसके बगल में पुलिस की वर्दी में एक युवक आकर बैठ गया और छेड़छाड़ करने लगा। जांच में पता चला कि आरोपी एक सिपाही है और उसका नाम जरीफ है। वह यहां नैनीताल पुलिस लाइन में तैनात था। मुखानी थाने में मुकदमा दर्ज होने के बाद उसे निलंबित कर दिया गया और बाद में पिथौरागढ़ ट्रांसफर कर दिया गया।

केस 3 : पिथौरागढ़ में शराब पीकर सिपाही ने की छेड़छाड़

पिथौरागढ़ के कनालीछीना में लगे महोत्सव में 25 नवंबर 2022 को ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मी शराब पीकर पहुंच गया। वह वहां एक महिला से छेड़छाड़ करने लगा। यह देख लोग भड़क गए और विरोध में उतर आए। मामला बढ़ते देख पुलिस के अधिकारी भी पहुंच गए अौर उन्होंने सिपाही को वहां से हटाकर अपने साथ ले गए। इस पूरी घटना का वीडियो भी वायरल हुआ। नशे में धुत मिले इस पुलिस कर्मी की पहचान अखिलेश आगरी के रूप में की गई। उसे देर रात एसपी लोकेश्वर सिंह ने निलंबित कर दिया। बताया जा रहा है कि बागेश्वर में तैनाती के दौरान भी उसे निलंबित किया गया था।

केस 4 : दुष्कर्म पीड़िता से संबंध बनाने की डिमांड

हल्द्वानी का यह केस काफी चर्चित रहा। मुखानी थाने में तैनात दारोगा दीपक बिष्ट ने दुष्कर्म पीड़िता से उसके आरोपित युवक काे पकड़ने के बदले पीड़िता से शारीरिक संबंध बनाने और पांच लाख रुपये की डिमांड कर दी थी। दरसअल, पीड़िता ने एनएसयूआई के पूर्व जिलाध्यक्ष तरुण शाह पर उससे दुष्कर्म करने और धमकाने का आरोप लगाया था।

  • जब वह इसकी शिकायत करने और मुकदमा दर्ज कराने मुखानी थाने पहुंची तो तत्कालीन थाना प्रभारी दीपक बिष्ट ने आरोपित को पकड़ने के बदले पीड़िता से शारीरिक सबंध बनाने और पांच लाख रुपये की डिमांड रख दी।
  • इस पर उसने 13 पन्नों में अपनी आपबीती लिखकर डीजीपी से शिकायत कर दी और फिर हाई कोर्ट में भी याचिका दायर कर दी, जिससे पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया था। 20 जुलाई 2022 को दारोगा को संस्पेंड कर दिया गया।

यह भी पढ़ें : खाकी पर फिर दाग, हल्द्वानी में बैंककर्मी और छात्रा संग सिपाहियों ने कर दी गंदी हरकत, 1 निलंबित 

केस 5 : बच्ची के साथ अश्लील हरकत

हल्द्वानी में 6 सितंबर 2021 को एक दारोगा ने हैवानियत की सभी हदों को पार करते हुए खाकी को शर्मसार कर दिया था। मुखानी थाने में एएसआई मदन बिष्ट ने एक बच्ची के साथ अश्लील हरकतें कर डाली थीं। वह कई दिनों से यह गंदी हरकतें कर रहा था, जिसे एक दिन बच्ची के घर वालों ने पकड़ लिया और सबूत के तौर पर वीडियो भी बना लिया। इसके बाद दरोगा की जमकर पिटाई भी कर डाली। दारोगा की पिटाई का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हुआ था। हालाकि एसएसपी ने दारोगा को सस्पेंड कर खाकी पर लगे दाग को साफ करनेे की कोशिश की थी।

केस 6 : कोतवाल पर दुष्कर्म का आरोप

ऊधम सिंह नगर के जसपुर कोतवाली में तैनात कोतवाल अशोक कुमार पर 29 सितंबर 2022 को एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। उसने कार्रवाई की मांग लेकर डीजीप से मुलाकात की थी और सबूत के दौरान एक वीडियाे भी सौंपा था। जिसमें निरीक्षक अशोक कुमार महिला के साथ दिखाई दे रहे थे। इसके बाद अगले ही दिन कोतवाल को निलंबित कर दिया गया था। हालांकि बाद में महिला अपने बयान से मुकर गई थी और आरोपाें को वापस ले लिया था।

यह भी पढ़ें :

पिथौरागढ़ में शराब के नशे में धुत होकर पुलिस कर्मी पहुंचा ड्यूटी करने, महिला से छेड़खानी का आरोप, वीडियो वायरल 

मित्र पुलिस बन न जाए आम जनता की 'शत्रु', इन घटनाओं ने तोड़ा भरोसा, उत्तराखंड पुलिस की छवि को बनाया दागदार 

Edited By: Rajesh Verma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट