काशीपुर, जेएनएन : सोमवार की रात काशीपुर पुलिस ने जसपुर बस अड्डे से पाकिस्तानी मूल की अमेरिकी महिला को हिरासत में लिया। पूछताछ के बाद पता चला कि वह अवैध रूप से भारत में आने के कारण पहले भी गिरफ्तारी हो चुकी है और जमानत पर बाहर है। शुरुआती जांच के बाद खुफिया विभाग भी अलर्ट हो गया है। महिला ने बताया कि साल 2019 में वह भारत और नेपाल सीमा पर बगैर वीजा पर भारत में घुसते पकड़ी गई थी। शुरुआती जांच में सामने आ रहा है कि यह महिला किसी भारतीय नागरिक से शादी कर भारत की नागरिकता पाने की फिराक में लगी है।

कौन है फरीदा कैसे हुई थी गिरफ्तार

12 जुलाई 2019 को बस से काठमाडू से भारत आ रही पाकिस्तान मूल अमेरिका निवासी फरीदा मलिक को इमीग्रेशन अधिकारियों ने पकड़ा था। जिसके बाद उसके खिलाफ बनबसा थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। मामले में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट धर्मेद्र कुमार ने पांच मार्च को चार वर्ष की सश्रम करावास की सजा और 20 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था। सीजेएम की अदालत से दोषी करार दी गई विदेशी महिला को कुछ दिन लोहाघाट न्यायिक बंदीगृह में रखने के बाद अल्मोड़ा जेल भेज दिया गया। अभियुक्त विदेशी महिला फरीदा मलिक की ओर से अधिवक्ता शेखर लखचौड़ा ने अल्मोड़ा से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिला एवं सत्र न्यायालय में जमानत अर्जी लगाई थी। जिसके बाद उसे बेल पर रिहा किया गया है।

 

काशीपुर आने का क्या था मकसद

पुलिस के मुताबिक, जसपुर बस अड्डे पर महिला का किसी युवक के साथ विवाद हो गया था। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की। उसने अपना नाम फरीदा बेगम बताया। बताया कि वह अमेरिकी नागरिक है। सूत्रों की मानें तो फरीदा खास मकसद से काशीपुर पहुंची थी। जेल में रहने के दौरान इस महिला का महुआखेड़ा गंज के रहने वाले एक बदमाश से संपर्क हुआ था, जिससे मिलने ये काशीपुर आई थी। शुरुआती जांच में पता चला है कि फरीदा भारत में ही शादी कर भारत में शरण लेने के फिराक में हैं। मामले में महुआखेड़ागंज के एक युवक से पूछताछ भी की गई है।

 

खुफिया विभाग के रडार पर फरीदा की गतिविधि

फरीदा की गतिविधि शुरू से संदिग्ध रही है। कई विदेशी भााषाओं की जानकार फरीदा से पूछताछ में दिक्कतें नहीं आती हैं । काशीपुर की स्थानीय पुलिस से पूछताछ केे दौरान रवैया ऐसा ही रहा। काशीपुर आने की वजह को लेकर खुफिया विभाग ने परत खोलनी शुरू की तब पता चला कि किसी खास मकसद से वह किसी अपने दोस्त से मिलने यहां पहुंची थी। मामले में फरीदा को लेकर जांच तेज कर दी गई है। फिलाहाल उसे एक जानने वाले को सौंपा गया है जो काठगोदाम में रहता है। मामले में आला अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस