जागरण संवाददाता, नैनीताल : बाबा नीब करौरी महाराज की तपस्थली कैंची धाम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की घोषणाओं पर अमल शुरू हो गया है। शासन ने पहले चरण में पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए 72 लाख रुपये जारी भी कर दिए हैं। इस धनराशि से कैंची धाम क्षेत्र के तल्ला व मल्ला निगलाट क्षेत्र में शिप्रा नदी पर एक घराट को पुनर्जीवित किया जाएगा। साथ ही एक किमी दूर गुमनाम गुफा तक पहुंच के लिए मार्ग बनाया जाएगा। वाटरफाल के आसपास सुंदरीकरण होगा, जबकि धारी ब्लाक के सुनकिया में डेढ़ किमी लंबाई की बर्ड वाचिंग ट्रेल बनाई जाएगी।

सचिव पर्यटन दलीप जावलकर की ओर से जारी शासनादेश के अनुसार, सुनकिया के साथ ही तल्ला-मल्ला निगलाट में होम स्टे क्लस्टर अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए नियोजन विभाग ने 138 लाख 88 हजार की वित्तीय व प्रशासनिक स्वीकृति दे दी है। जिला पर्यटन अधिकारी अरविंद गौड़ ने बताया कि इस योजना में कुमाऊं मंडल विकास निगम को कार्यदाई संस्था बनाया गया है। बता दें कि कैंची धाम क्षेत्र में 15 से अधिक होम स्टे बनाने के साथ ही पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए प्रोजेक्ट तैयार किया गया है।

नैनीताल में कुमाऊंनी शैली में रिक्शा स्टैंड तैयार

डीएम धीराज गब्र्याल की पहल पर मल्लीताल रिक्शा स्टैंड को कुमाऊंनी शैली में बनाने का काम अंतिम चरण में पहुंच गया है। अगले एक सप्ताह में काम पूरा होने के बाद लोकार्पण की तिथि तय होगी। करीब 15 लाख की लागत से बने रिक्शा स्टैंड में अल्मोड़ा के नक्काशीदार पत्थर की चिनाई की गई है। यहां सेल्फी प्वाइंट भी बनेगा।

Edited By: Skand Shukla