हल्दूचौड़, जेएनएन : जंगल की सीमा से सटे हरिपुरबच्ची गांव में गुरुवार तड़के हाथी ने किसान को दौड़ा लिया। किसान का पीछा करते हुए हाथी उसके घर तक आ गया। इस दौरान उसने खलिहान में गोशाला तोड़ डाली। किसान ने किसी तरह अपनी जान बचाई। हाथियों के उत्पात से निजात न दिलाने पर किसानों ने अब वन विभाग और प्रशासन के खिलाफ आंदोलन का मन बनाया है।

गुरुवार तड़के हाथियों का झुंड हरिपुर बच्ची के आबादी वाले इलाके में घुस आए। किसान कैलाश बमेठा ने हाथियों को भगाने के लिए टार्च की रोशनी की तो एक ने चिंघाड़ते हुए उसकी ओर दौड़ लगा दी। हाथी पीछा करते हुए खलिहान तक आ गया। कैलाश पड़ोसी के घर में छिप गया। इस दौरान हाथी ने गोशाला की दीवार तोड़ डाली। कुछ देर बाद जंगल की ओर चला गया। इस दौरान ग्राम प्रधान हरेंद्र असगोला ने वन विभाग के उच्चाधिकारियों से वार्ता कर घटना के बारे में बताया। हाथियों के उत्पात से जल्द ही निजात न दिलाने पर जिलाधिकारी के घेराव के अलावा आंदोलन की चेतावनी दी है।

गौरतलब है कि इससे पूर्व भी कई बार हाथी आबादी क्षेत्र में घुसकर फसलों को तबाह कर चुके हैं। इतना ही नहीं, भगाने की कोशिश करने पर कई बार हाथी किसानों के पीछे दौड़े हैं। दरअसल, पानी की तलाश में भी अब हाथी किसानों के खलिहानों तक आने लगे हैं। रात के समय स्थिति और विकट हो जाती है। हाथियों को भगाने के लिए सुबह तक का इंतजार करना पड़ता है। और इस दौरान हाथी खेत-खलिहान पूरी तरह उजाड़ चुके होते हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस