खटीमा(ऊधमसिंह नगर) जेएनएन : किलपुरा रेंज से लगे नौगवांनाथ गांव में धान के खेत में घुस रहे हाथी की पानी से भरी खाई में गिरने से मौत हो गई। वन विभाग अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेने के बाद उसका पोस्टमार्टम कराया। मृत हाथी के सभी अंग सुरक्षित मिले।  

पश्चिमी किलपुरा कंपार्टमेंंट संख्या तीन से लगे जंगल की सीमा व आबादी के बीच वन्य जीवों की आवाजाही रोकने के लिए खाई खुदवाई गई है। इन दिनों खाई में बारिश का पानी भरा है। सोमवार सुबह नौगवांनाथ की आबादी से लगे वन क्षेत्र के समीप गश्त कर रहे वन कर्मियों ने खाई में एक हाथी का शव देखा। सूचना पर रेंजर केसी कफल्टिया टीम के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने मौके पर ही पशु चिकित्सक डॉ.कोमल सिंह व डॉ.अमित कुमार को बुलवाकर पोस्टमार्टम करवाया। एसडीओ बाबू लाल के मुताबिक सुरक्षा खाई की दीवार पहले से टूटी हुई थी। माना जा रहा है कि रात में हाथियों का झुृंड धान के खेतों में घुसने की कोशिश कर रहा था। इसी दौरान झुंड में शामिल नर हाथी ने खाई के रास्ते खेत में पहुंचने का प्रयास किया। इस कोशिश में सूंड के बल खाई में गिर गया। पानी में दम घुटने से उसकी मौत हो गई। एसडीओ ने बताया कि फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह स्पष्ट होगी। हाथी के सभी अंग सुरक्षित मिले हैं और उम्र करीब आठ साल है।  

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप