हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : बिजली के लगातार बढ़ते हादसों के बावजूद ऊर्जा निगम लोगों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं हो रहा है। पिछले साल सितंबर में नैनीताल रोड पर करंट से युवक की दर्दनाक मौत के बाद ऊर्जा निगम ने प्रस्ताव तो बनाया, लेकिन हाईटेंशन लाइन में सुरक्षा जाल अब तक नहीं लगाया है। गुरुवार को रामपुर रोड पर पोल और हाईटेंशन लाइन गिरने से फिर ऊर्जा निगम की लापरवाही उजागर हो गई है। 

24 सितंबर 2020 की सुबह नैनीताल रोड पर 11 केवी की हाईटेंशन लाइन का पोल गिर गया था। तार में करंट प्रवाहित होता रहा। इसी दौरान सड़क से गुजर रहा युवक तार की चपेट में आ गया। दर्दनाक हादसे में करंट लगने से जलकर युवक की मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके बाद आला अफसरों की नींद टूटी। लापरवाही के दोषी अफसर से लेकर कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया। एक कर्मचारी की सेवाएं तक समाप्त कर दी गईं। वहीं ऊर्जा निगम के अफसरों ने शहर भर में ऐसे स्थान चिन्हित किये, जहां हाईटेंशन और लो टेंशन लाइन के नीचे सुरक्षा जाल नहीं लगे हैं। इस कारण तार टूटने पर वह सड़क पर गिर जाता है। 

यदि सुरक्षा जाल लगें हो तो तार टूटने पर उससे अटक जाता और जनहानि का खतरा नहीं रहता। ऊर्जा निगम में 15 दिन तक अभियान चलाकर पॉइंट चिन्हित किये और सुरक्षा जाल लगाने का प्रस्ताव बनाकर मुख्यालय को भेजा। अब तक मुख्यालय ने इस प्रस्ताव पर स्वीकृति नहीं दी है। वहीं ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता विधुत वितरण खंड शहर देवेंद्र बिष्ट ने बताया कि हाईटेंशन लाइन में सुरक्षा जाल लगाने का प्रस्ताव बनाकर मुख्यालय को भेज गया है। मुख्यालय से प्रस्ताव को स्वीकृति मिलते ही तार लगाने की कार्यवाही की जाएगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021