जागरण संवाददाता, रामनगर : दैनिक जागरण में सम्पादक के नाम पत्र लिखने में Guinness Book of World Records में अपना नाम दर्ज करा चुके एडवोकेट पूरन चन्द्र पाड़े को डिग्री हासिल करने का जुनून सवार है। शिक्षा के प्रति ऐसा जुनून बिरले ही लोगो में देखने को मिलता है। वह रामनगर में टेक्स बार एसोसिएशन के अद्यक्ष भी रह चुके हैं। पत्रकारिता में परास्नातक करने के साथ ही उन्होंने ने अपने जीवन मे शिक्षा के क्षेत्र में 13 डिग्री हासिल कर ली है। मगर यह मुकाम अभी ठहरा नही है। अब 14वी डिग्री मनोविज्ञान में लेने की तैयारी चल रही है।

1998 में बीए करने के बाद पाड़े के भीतर एक के बाद एक डिग्री हासिल करने का जुनून ऐसा जगा जिसने आज तक रुकने का नाम नहीं लिया है। अर्थशास्त्र, समाज शास्त्र, एलएलबी, एलएलएम, मानवाधिकार, राजनीति शास्त्र, लोक प्रसाशन, शिक्षा शास्त्र, हिंदी, योग इतिहास आदि विषयों में डिग्री हासिल की। इसके साथ ही पत्रकारिता में भी डिग्री हासिल करने के बाद अब मनोविज्ञान में भी डिग्री लेने की तैयारी कर रहे है।

अध्ययन पंडित से भी पुकारते है मित्र

अपने क्लाइंट से समय निकालने के बाद पूरन हर समय किताबों की दुनिया मे खोए रहते हैं। समाजिक संगठनों से भी जुड़े है। किताबी ज्ञान ज्यादा होने की वजह से वह अपने मित्रों में अध्य्यन पंडित के नाम से भी जाने जाते है।

लिम्का बुक आफ रिकार्ड में भी नाम दर्ज

दैनिक जागरण में सम्पादक के नाम सर्वाधिक पत्र लिखने पर पूरन पाड़े का नाम गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड में तो दर्ज है ही साथ ही साथ ही गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड में भी नाम दर्ज है। पाड़े बताते है कि 2006 में दैनिक जागरण में सम्पादक के नाम पत्र लिखने का जो रिकार्ड गिनीज बुक में दर्ज हुआ है उसे 15 साल यानी अभी तक कोई नही तोड़ पाया है।

डिग्री पाने का मुकाम अभी नहीं हुआ खत्म

अधिवक्ता पूर्ण चन्द्र पांडे कहते है कि पढ़ाई के लिए उम्र की कोई सीमा नही होती। मन मे ललक है अभी बहुत डिग्री हासिल करनी है। कहा जाकर रुकेगा यह सिलसिला वह खुद नही जानते। कहते है कि हो सकता है कि उनकी पढ़ाई भी कोई रिकार्ड बन जाये। पर अभी इस पर सोचा नहीं है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें