जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : राजकीय मेडिकल कॉलेज में प्रस्तावित 150 बेड के नए अस्पताल की कवायद शुरू हो गई है। भारत सरकार ने 60 करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट को डेढ़ साल पहले ही हरी झंडी दे दी थी। अब 32 करोड़ रुपये भी उत्तराखंड सरकार को जारी कर दिए हैं। इसके साथ ही कॉलेज प्रशासन ने एक करोड़ 65 लाख रुपये से डीपीआर तैयार करने के लिए पेयजल निर्माण निगम को स्वीकृति दे दी है। इस अस्पताल के शुरू हो जाने के बाद एमबीबीएस की 50 सीटें और बढ़ाई जा सकेंगी। राज्य ने 15 करोड़ रुपये किए स्वीकृत

नए अस्पताल के लिए भारत सरकार की ओर से जारी 32 करोड़ रुपये में से 15 करोड़ रुपये राज्य सरकार की ओर से पहले चरण के लिए निर्धारित कर दिए गए हैं। इसी के बाद डीपीआर तैयार होने की प्रक्रिया शुरू हुई है। इस बजट से एसटीएच की मरम्मत भी होनी है। इसके लिए डीपीआर तैयार की जा रही है। मरीजों को होगा लाभ

वर्तमान में मेडिकल कॉलेज के टीबी एवं चेस्ट विभाग की जमीन पर नए अस्पताल का निर्माण होना है। अस्पताल बनने से कुमाऊं भर के और अधिक मरीजों को लाभ होगा। वर्तमान में एसटीएच में ही 500 से अधिक मरीज भर्ती रहते हैं और 1500 से अधिक मरीज ओपीडी में पहुंचते हैं। स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग हमेशा फुल रहता है। नए विद्यार्थियों को मिलेगा पढ़ने का मौका

नया अस्पताल बनने से एमबीबीएस की 50 सीटें और बढ़ने से विद्यार्थियों को मेडिकल की पढ़ाई का मौका मिलेगा। साथ ही डॉक्टरों की कमी भी दूर होगी। एमबीबीएस की 100 सीटें बढ़ाने के लिए लंबे समय से कवायद चल रही है। इसके लिए 150 बेड का अस्पताल बनाया जाना था। भारत सरकार की विशेष योजना के तहत काम शुरू हो गया है। डीपीआर तैयार करने के लिए निर्माण एजेंसी को अनुमति दे दी गई है।

-डॉ. आशुतोष सयाना, निदेशक चिकित्सा शिक्षा

Posted By: Jagran