हल्द्वानी, जेएनएन : हरिपुर जमन सिंह गांव से सटे जंगल में 27 सितंबर को मिला कंकाल महिला का होने की पुष्टि होने पर इसका डीएनए मिलान डेढ़ साल की मासूम बेटी से कराया जाएगा। पुलिस ने पांच वनवंबर को हत्याकांड का खुलासा कर महिला की हत्या के आरोप में ससुर को गिरफ्तार किया था। ससुर ने अवैध संबंधों के शक में महिला की हत्या की थी।

27 सितंबर को हरिपुर जमन सिंह गांव से सटे जंगल में एक कंकाल मिला था। कपड़ों के आधार पर पुलिस ने कंकाल महिला का मानकर जांच शुरू की। पांच नवंबर को पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि हरिपुर जमन सिंह गांव में रहने वाले गुरचरन सिंह के घर पर ग्राम जोगीठेर, अलीगंज निवासी मदन लाल 10 सितंबर से किराये पर रह रहा था। उसके साथ सीमा नाम की महिला व दो छोटे बच्चे भी थे। मदन लाल ने सीमा को अपनी पत्नी बताया था। 19 सितंबर की शाम मदन लाल ने बताया कि सीमा किसी के साथ भाग गई है और बच्चों को लेकर चला गया। मकान मालिक व आसपास के लोगों ने कंकाल पर मिले कपड़े सीमा के होने का शक जताया। लंबी तलाश के बाद पुलिस ने मदन लाल को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो पता चला कि जिस सीमा को वह पत्नी बताता था, वह वास्तव में उसकी पुत्रवधु थी और दोनों बच्चे पोता-पोती थे। मदन लाल ने बहू सीमा को चाल-चलन पर शक जताकर 17 सितंबर की रात को समझाना चाहा। सीमा के गालीगलौज कर हाथापाई करने पर मदन ने भी दोनों हाथों से उसका गला पकड़कर दबा दिया। इससे बेहोश सीमा को कंधे पर रखकर समीप के जंगल में ले गया और सिर पर चापड़ से कई प्रहार कर दिए।

हत्याकांड के विवेचक एसएसआइ कश्मीर सिंह ने बताया कि कंकाल सीमा का ही था, इसकी पुष्टि करने के लिए डीएनए कराया कराया जाएगा। कंकाल के डीएनए को सीमा की डेढ़ साल की बेटी निशा से मिलान कराने की तैयारी की जा रही है। न्यायालय से इसकी अनुमति मांगी गई है। गुरुवार को जोगीठेर गांव से दादी अहोपा मासूम निशा को लेकर हल्द्वानी पहुंची थी। पुलिस शुक्रवार तक न्यायालय द्वारा बच्ची के डीएनए जांच कराने या नहीं कराने के आदेश देने की उम्मीद जता रही है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के अस्तित्‍व के लिए जरूरी बनियानाला के ट्रीटमेंट के लिए ब्रिटिशकाल से बनती रही हैं कमेटियां

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021