हल्द्वानी, जेएनएन : एसटीएच में अब कोरोना के अलावा भी सामान्य बीमारियों का इलाज हो सकेगा। इसके लिए शुक्रवार को चिकित्सा शिक्षा निदेशक युगल किशोर पंत ने निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अब हमें धीरे-धीरे कोरोना के अलावा भी अन्य बीमारियों का इलाज के लिए सेवाएं शुरू करनी होंगी। क्योंकि अब ज्यादा समय के लिए चिकित्सालय में अन्य सेवाएं बाधित नहीं कर सकते हैं। वह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य कार्यालय के सभागार में क्लीनिकल विभाग के विभागाध्यक्षों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

 

देहरादून से पहुंच निदेशक ने पढ़ाया नैतिकता का पाठ

बैठक लेते हुए चिकित्सा शिक्षा निदेशक ने डॉक्टरों के कार्य की सराहना की और उन्हें नैतिकता का पाठ पढ़ाया। उन्होंने कहा कि आपका काम सराहनीय है। रोगियों को बेहतर इलाज मिल रहा है। रोगी स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं, लेकिन कुछ छोटी-छोटी समस्याओं व आपसी संवादहीनता से बुराई हो जाती है। आपको देखना है कि आपके अधीनस्थ कठिन तरीके से काम कर रहे हैं। एसटीएच अच्छा संस्थान है। कोरोना के रोगियों के ईलाज में आप सभी को आपसी समन्वय बनाकर कार्य करना होगा।

 

कोरोना इलाज में सभी डॉक्टर करें ड्यूटी

निदेशक ने प्राचार्य प्रो. सीपी भैंसोड़ा व चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अरुण जोशी को निर्देशित किया कि कोरोना में सभी विभागों के डॉक्टर ड्यूटी करें। इसका रोस्टर बनाया जाए। इसमें वरिष्ठ डॉक्टरों को वार्डो का इंचार्ज बनाया जाए। ये सभी स्वास्थ्य, साफ-सफाई अथवा भोजन की व्यवस्था भी देखेंगे। सफाई कर्मचारी, वार्ड ब्वॉय, स्टाफ नर्स अपना काम जिम्मेदारी से कर रहे हैं या नहीं, इसकी मॉनिटङ्क्षरग की जिम्मेदारी भी सीनियर डॉक्टर व चिकित्सा अधीक्षक की होगी।

 

उपकरण खरीदने में नहीं बजट की कमी- चौहान

चिकित्सा शिक्षा अपर सचिव अरुणेंद्र चौहान ने कहा कि रोगियों के इलाज में किसी प्रकार की मशीन व उपकरणों की जरूरत हो तो खरीद लिया जाए। इसके लिए बजट की कमी नहीं है। अधिकारियों ने निर्माण एजेंसियों से भी चर्चा की।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस