जागरण संवाददाता, अल्मोड़ा : चौघानपाटा में कलमठ निर्माण सिरदर्द बन गया है। पहले जल संस्थान की पाइपलाइन ध्वस्त हुई। अब लोडर मशीन से खोदाई के दौरान भारतीय दूरसंचार निगम (बीएसएनएल) की भूमिगत केबल लाइनें तहस नहस हो गई। इससे ढाई सौ से ज्यादा उपभोक्ताओं के कनेक्शन कट गए। वहीं निगम को 1.25 लाख रुपये की चोट पहुंची है। इधर बगैर अनुमति खदान पर बीएसएनएल की ओर से लोनिवि के खिलाफ नोटिस जारी कर कोतवाली में तहरीर दे दी गई है। 

माल रोड पर लोनिवि (प्रांतीय खंड) बरसाती पानी की निकासी को चौघानपाटा में कलमठ निर्माण करा रहा है। इसमें कई दिन बीत चुके। गुरुवार को खोदाई के दौरान लोडर मशीन के ऑपरेटर ने काफी गहरी चोट की। नतीजतन बीएसएनएल की लैंडलाइन सेवा की भूमिगत 400, 200 व 100 जोड़े की एक-एक तथा 50 पेयर की दो केबल कट गई। मलबा हटाने के बाद इसका पता लगा तो हड़कंप मच गया। 

वहीं चौघानपाटा से आगे के क्षेत्र में करीब ढाई सौ उपभोक्ताओं के लैंडलाइन फोन ठप हो गए। सर्वर ने काम करना बंद कर दिया। इंटरनेट सेवा भी बाधित हो गई। उधर लोनिवि प्रांतीय खंड ने गलती तो मानी मगर यह भी कहा कि भूमिगत केबल बेकार समझ कर खदान कर दिया। 

ये मुख्य कार्यालय प्रभावित 

उपभोक्ताओं के साथ ही एसएसपी, पुलिस व डीएम कैंप कार्यालय, सर्किट हाउस, ऊर्जा, वन व पर्यटन विभाग, एसएसजे विवि आदि। 

बोले अध‍िकारी 

'लोनिवि ने हमें खदान की न तो सूचना दी न कोई अनुमति ली गई। केबल कटने से हमारे उपभोक्ताओं को खासी परेशानी झेलनी पड़ी। दूरभाष के साथ इंटरनेट सेवा बाधित हो गई है। हमने तहरीर देकर पीडब्ल्यूडी से इसकी भरपाई को भी कहा है। नोटिस भी भेज दिया है। 

- संजय कुमार सिन्हा, उपमंडल अभियंता बीएसएनएल

'चौघानपाटा में कई दिनों से काम चल रहा है। वहां पर बीएसएनएल की लाइन होने की जानकारी नहीं थी। केबल डैड समझ कर खोदाई कर दी। बीएसएनएल के अधिकारियों से वार्ता की जा रही है। 

- भावना पांडे, जेई लोनिवि प्रांतीय खंड

Edited By: Prashant Mishra