हल्द्वानी, जेएनएन : एसटीएच से लापता कोरोना संक्रमित मरीज की 24 घंटे बाद संदिग्ध परिस्थियों में लाश अस्पताल के ही शौचालय में बरामद हुई है। रईस अहमद निवासी रामनगर गुलारघट्टी उम्र साठ साल बुधवार को अस्पताल से लापता हो गया था। इस बात की खबर स्वास्थ्य महकमे में फैलने के बाद हड़कंम मच गया। वहीं अस्पताल में गुरुवार सुबह शव मिलने की सूचना पर कोतवाली के एसएसआई कश्मीर सिंह मौके पर पहुंचे। मामले की जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि मरीज को दौरे भी पड़ते थे। बहरहाल रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह साफ हो सकेगी।

 

रामनगर निवासी कोरोना संक्रमित रईस अहमद 58 वर्षीय एक अगस्त को एसटीएच में भर्ती हुआ था। उसे सी वार्ड में भर्ती किया गया था। जबकि उसके पिता व पुत्र भी पॉजिटिव होने के चलते इसी अस्पताल में भर्ती हैं। बुधवार सुबह जब अस्पताल कर्मचारी चादर बदलने के लिए वार्ड में गए थे। तभी वह दरवाजा खुला देख चुपचाप निकल लिया। जब कर्मचारियों ने मरीज को बेड पर नहीं देखा तो हड़कंप मच गया। शक के आधार पर पुलिस की टीम रामनगर में उसके घर पहुंची लेकिन वहां उसके बारे में सुराग नहीं लगा। इसके बाद पता चला कि बनभूलपुरा में उसके रिश्तेदार भी रहते हैं। जिस वजह से पुलिस वहां भी छानबीन को पहुंच गई। अस्पताल के बाद रामपुर रोड के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले गए। वहीं कुछ देर बाद लापता संक्रमित का शव अस्पताल के ही शौचायल में ही मिला।

 

एसटीएच प्रबंधन पर उठने लगे सवाल

मरीजों का ध्यान रखने को लेकर एसटीएच प्रबंधन पर फिर सवाल उठने लगे हैं। इससे पहले भी एक मरीज टूटी खिड़की से भागा था, लेकिन वह कोरोना संक्रमित नहीं था। पुलिस ने उसे भीमताल से पकड़ा था। पिछले सप्ताह मानसिक रूप से अस्वस्थ कोरोना संक्रमित मरीज गेट तक पहुंच गया था, लेकिन उसे पकड़ लिया गया था। वहीं अब लापता मरीज का शव मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस