हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइकोसिस) से पीडि़त एक महिला मरीज का दिल्ली में ऑपरेशन हुआ, लेकिन वहां दवा नहीं मिली। इसके बाद स्वजन मरीज को लेकर एसटीएच पहुंच गए। यहां इलाज और दवाइयां मिलने के बाद अब मरीज की हालत में सुधार है।

एसटीएच में नाक, कान व गला रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डा. शहजाद ने बताया कि हल्द्वानी की रहने वाली 52 वर्षीय महिला ब्लैक फंगस से पीडि़त थी। पांच दिन दिल्ली अस्पताल में रही। वहां पर ऑपरेशन भी हुआ, लेकिन वहां पर दवा नहीं मिली।

इसके बाद स्वजन उन्हें एसटीएच ले आए। महिला की सभी जांचें की गई। एंफोटेरेसिन बी दी गई। 25 दिन भर्ती करने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। वहीं, इस समय अस्पताल में ब्लैक फंगस से पीडि़त आठ मरीज भर्ती हैं। अब तक एसटीएच में 16 मरीजों का ऑपरेशन हो चुका है। इनमें से छह मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज कर दिए गए हैं।

एसटीएच में कोविड के 20 मरीज भर्ती

एसटीएच के चिकित्सा अधीक्षक डा. अरुण जोशी ने बताया कि अस्पताल में कोरोना संक्रमित 20 मरीज भर्ती हैं। इनमें से सात मरीज अस्थायी कोविड अस्पताल में भी हैं। नैनीताल के एक मरीज की मौत हो गई। कोरोना संक्रमण होने के बाद उनकी हालत बिगड़ गई थी। वहीं स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जिले में सोमवार को 11 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Skand Shukla