जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : इंटरनेट के बढ़ते उपयोग के बीच साइबर अपराध के मामलों में भी तेजी आई है। स्थिति यह है कि साइबर अपराधी नित नए तरकीब से लोगों को ठग रहे हैं। जिसमें अश्लील क्लिपिंग बनाकर लोगों को ठगने के मामले बढ़ें हैं। वीडियो वायरल होने से डरकर पीडि़त लोग चुपचाप पैसे दे रहे हैं।

फेसबुक पर वीडियो कॉल करके ठगी का नेटवर्क अश्लील क्लिपिंग चला रहा है। जिसमें यूजर के चेहरे की वीडियो रिकार्डिंग कर नई क्लिप तैयार की जा रही है। अश्लील क्लिपिंग को फेसबुक मैसेंजर व वाट्सएप के जरिये भेजकर पैसे की उगाही की जा रही है। ऐसी वारदातों में 20 से 50 हजार रुपये की डिमांड यूजर से की जा रही है। यदि कोई व्यक्ति पैसे देने में आनाकानी करता है तो इंटरनेट पर वीडियो वायरल कर बदनाम करने की धमकी दी जाती है।

ताजा मामला यूथ कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता हरीश रावत से जुड़ा हुआ है। जिसमें उन्हें वीडियो कॉल करके अश्लील क्लिपिंग बनाई गई है। जिसके नाम पर उनसे 50 हजार रुपये की मांग की गई। जिसमें उन्होंने डर को पीछे छोड़कर साइबर पुलिस को मामले की सूचना दी है। मामले में एसपी सिटी के आदेश पर जांच भी शुरू कर दी गई है। कांग्रेस नेता ने बताया कि अधिकांश लोग बदनामी के डर से आगे नहीं आ रहे हैं। जिसका फायदा साइबर अपराधी उठा रहे हैं और बेखौफ होकर अपराध कर रहे हैं।

अंजान वीडियो कॉल रिसीव नहीं करने की सलाह

साइबर पुलिस की ओर से कहा जा रहा है कि इस तरह की ठगी व अपराध से बचने के लिए अंजान वीडियो व फोन कॉल लोग रिसीव करने से बचें। यदि कोई संशय दिखे तो फ्रंट कैमरा फौरन हाथ से ढक दें। जिससे इस तरह की समस्या से लोग बच सकें।

Edited By: Skand Shukla