हल्द्वानी, जेएनएन : हिम्मतपुर तल्ला के राकेश जोशी साइंस स्ट्रीम से इंटरमीडिएट की पढ़ाई कर चुके हैं। उनकी इच्छा कानून की पढ़ाई की है, लेकिन पैरेंट्स चाहते हैं बेटा बीटेक करे। ऐसे में अगर बेटा किसी कारण से बीटेक कर भी लेता है, तो पढ़ाई में उसका मन नहीं लगेगा। परेशान रहेगा। इसलिए बेटे को अपनी रुचि के अनुसार विषय चुनने की सलाह दी जानी चाहिए। यह सलाह बुधवार को कॅरियर काउंसलर दीक्षित मिश्रा ने दी। उन्होंने दैनिक जागरण के प्रश्न पहर कार्यक्रम कॅरियर काउंसलिंग की और सुधी पाठकों को परामर्श दिया।

मानविकी में हैं अपार संभावनाएं 

कॅरियर काउंसलर कहते हैं कि अब किसी विशेष फील्ड के पीछे भागने की जरूरत नहीं है। साइंस स्ट्रीम में इंजीनियङ्क्षरग व मेडिकल के अलावा मानविकी में भी अपार कॅरियर की संभावनाएं हैं। ऐसे में विद्यार्थी 12वीं के बाद लॉ, मैनेजमेंट, मास कम्यूनिकेशन, एडवरटाइजिंग, होटल मैनेजमेंट, मनोविज्ञान, सोशल साइंस आदि विषयों का चयन कर सकते हैं।

तकनीकी के क्षेत्र में बढ़ रहे अवसर

जिस तरह तकनीकी का क्षेत्र बढ़ रहा है। इसमें भी कॅरियर के तमाम अवसर हैं। आने वाले समय में इस क्षेत्र में कॅरियर के लिए और विकल्प तैयार होंगे। इसलिए तकनीकी क्षेत्र में रुचि रखने वाले विद्यार्थी सॉफ्टवेयर डिजाइनिंग, रोबोटिक साइंस, डिजिटल मार्केटिंग, आर्टिफिशियल इंटलिजेंसी में भविष्य बना सकते हैं।

सोच-समझकर करें शिक्षण संस्थानों का चयन

अक्सर देखा जाता है कि बेहतर कॅरियर बनाने के चलते विद्यार्थी ऐसे शिक्षण संस्थानों में प्रवेश ले लेते हैं, जहां न ढंग की फैकल्टी रहती है और न ही सुविधाएं। रोजगारपरक पाठ्यक्रम में भी व्यावहारिक प्रशिक्षण की कोई सुविधा नहीं होती है। ऐसे में बाद में पछताने के बजाय पहले ही शिक्षण संस्थान का चयन सोच-समझकर करना चाहिए।

पैरेंट्स के लिए जरूरी ये बातें

कॅरियर सलेक्शन में पैरेंट्स का महत्वपूर्ण योगदान होता है। पैरेंट्स बच्चों की रुचि को समझें। उसी आधार पर अपनी राय दें। अनावश्यक अपने हिसाब से विषयों का चयन करने से उचित लाभ नहीं मिल पाता है। हो सके तो एप्टीट्यूड टेस्ट भी कराएं।  

विद्यार्थी इन बातों पर करें फोकस 

- विषय चुनने से पहले खुद का आकलन करें

- अपने व्यवहार का अध्ययन करें

- पसंद-नापसंद के विषयों पर चर्चा करें

- अपनी क्षमता के आधार पर विषय चयन करें

- दोस्ती या पड़ोसी को देखकर विषय न चुनें

- किसी के दबाव में आकर भी विषय न चुनें 

- जरूरत पडऩे पर कॅरियर काउंसलर की मदद लें

इन्होंने पूछे सवाल

लालकुआं से अंकित पांडे, हल्द्वानी से सुमन दुर्गापाल, जीवन जोशी, ललित बेलवाल, पवन उपाध्याय, दीप्ति सिंह, भीमताल से पवन गोस्वामी आदि ने फोन कर परामर्श लिया।

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस