हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : जंगल से लकड़ी बीनकर ई-रिक्शा से लौट रहे युवक को बरात की बस ने कुचल दिया। हादसे में घायल युवक को इलाज के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। युवक की मौत से स्वजनों में कोहराम मचा है। पुलिस ने शव पीएम के बाद स्वजनों को सौंप दिया है। पुलिस ने चालक को हिरासत में लेकर बस को कब्जे में ले लिया है।

बनभूलपुरा वार्ड नंबर 24 गफूर बस्ती निवासी हबीब अहमद (45) पुत्र बंदू अहमद ई-रिक्शा चलाकर गुजर बसर करता था। स्वजनों के अनुसार निकाह के कुछ समय बाद ही उसकी पत्नी अलग रहने लगी थी। उसके दो बच्चे भी पत्नी के साथ ही रहते थे। उनका कहना है कि गुरुवार की दोपहर हबीब लकड़ी बीनने के लिए टाटा जंगल की तरफ से आया था।

वापस लौटते समय सामने से आ रही बरात की बस में उसे नीलकंठ अस्पताल के पास जोरदार टक्कर मार दी। घायल को इलाज के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल लाया गया। देर शाम इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मेडिकल चौकी इंचार्ज नवीन आर्य ने बताया कि बस को कब्जे में ले लिया है। चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने बताया बरात बस को पकड़ने के बाद बरात दूसरी बस से गई। इधर, पीएस के बाद शव स्वजनों को सौंप दिया है।

Edited By: Skand Shukla