हल्द्वानी, जेएनएन : बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक, विजया बैंक के विलय के विरोध व एनपीए की वसूली की मांग को लेबर बुधवार को बैंकर्स हड़ताल पर रहे। बैंक ऑफिसर की हड़ताल को बैंक कर्मचारियों ने भी समर्थन दिया। हड़ताल के चलते ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के आवाह्न पर बुधवार को नैनीताल जिले के सभी राष्ट्रीयकृत बैंक बंद रहे। इसके चलते बैंक में किसी भी तरह की जमा-निकासी, चेक क्लीयङ्क्षरग, ट्रांसफर जैसे काम नहीं हुए। बैंक में आने वाले ग्राहकों को निराश होकर लौटना पड़ा। बैंक बंदी से 200 करोड़ से अधिक का कामकाज प्रभावित होने का अनुमान है। इधर, उत्तरांचल बैंक इम्पलाइज यूनियन उत्तराचंल बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के बैनर तले एसबीआई की मुख्य शाखा के बाहर एकत्र कर्मचारियों ने नारेबाजी की। वक्ताओं ने कहा सरकार कॉरपोरेट लोन डिफॉल्टर पर कार्रवाई करने के बजाय पहले से एनपीए में डूबे बैंकों को मर्ज कर अर्थव्यवस्था को चौपट करने पर तुली है। कहा कि बैंकों का एकीकरण एनपीए हो चुके ऋणों की वसूली में मददगार नहीं होगा। सरकार को बकाया ऋणों की वसूली के लिए ठोस रणनीति के तहत काम करना चाहिए।
इस दौरान उत्तराखंड बैंक इम्प्लाइज यूनियन के जिला महामंत्री केएन शर्मा, पीएनबी स्टाफ एसोसिएशन के जिला सचिव योगेश पंत, एसबीआई स्टाफ एसोसिएशन के केएस बसेड़ा, जीपी सिंह, शिवराज सिंह रावत, सुंदर सिंह, राजेंद्र सिंह, हिमांशु बृजवाल, त्रिभुवन पांगती, दिनेश गहतोड़ी, हेमा लोहनी, विनोद प्रसाद, इंद्र कुमार बसेरा, कैलाश आर्य, कमल पांडे, खुशाल सिंह आदि मौजूद रहे।

खराब एटीएम ने बढ़ाई मुसीबत
एक तो बैंक की हड़ताल ऊपर से शहर के कई एटीएम के खराब होने से कैश नहीं होने से ग्राहकों को दोहरी समस्या झेलनी पड़ी। कालाढूंगी चौराहे जैसे व्यस्ततम क्षेत्र में एसबीआई का एटीएम बुधवार को खराब पड़ा रहा। आते-जाते लोग खाली हाथ लौटते रहे।

मिलेगी राहत : आज खुलेंगे बैंक
छुट्टी व हड़ताल के बाद गुरुवार से बैंक नियमित तौर से खुलने लगेंगे। चौथा शनिवार, रविवार, क्रिसमस आदि के चलते पिछले छह दिनों में एक दिन में बैंक खुले पाए थे। बैंक खुलने से ग्राहकों को राहत मिलेगी।

नैनीताल में भी बैंक कर्मियों ने किया जोरदार प्रदर्शन
नैनीताल ।
बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक व देना बैंक के विलय के विरोध तथा वेतन समझौता लागू करने की मांग को लेकर यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले शहर के बैंकों में ताले लटके हैं।
शहर के राष्ट्रीकृत व अन्य बैंकों की 30 से अधिक शाखाओं के अधिकारी कर्मचारी हड़ताल पर हैं। यूनियन के आह्वान पर कारपोरेट बैंक शाखाओं को भी बंद करा दिया। मल्लीताल स्टेट बैंक की मुख्य शाखा में एकत्रित बैंक कर्मचारियों ने मोदी सरकार व केंद्रीय वित्त मंत्री के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। उत्तरांचल बैंक इम्लाइज यूनियन के अध्यक्ष प्रवीण साह ने कहा कि केंद्र सरकार बैंकों के निजीकरण को आमादा है। बैंकों में भर्तियां नहीं कि जा रही हैं जबकि काम का बोझ बढ़ता जा रहा है। जिन बैंकों का विलय किया गया हैं वहां से कर्मचारियों की छंटनी की जा रही है।
इस दौरान शाखा सचिव शंकर सिंह दुग्ताल, अर्चना साह, अविनाश कुमार, राधा खनका, अभिषेक अधिकारी, अंकुर मिस्रा, जीवन सिंह, राजेन्द्र रावत, गणेश अधिकारी आदि थे। एक अनुमान के अनुसार नैनीताल में बैंक हड़ताल से करीब 50 करोड़ का कारोबार प्रभावित होना तय है।

यह भी पढ़ें : साल भर से ठप पड़े हैं शहर के विकास कार्य, मेयर साहब कब शुरू होंगे काम

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस