नैनीताल, किशोर जोशी। कुमाऊं विवि असिस्टेंट प्रोफेसर की पात्रता के लिए फिर से यू-सेट परीक्षा आयोजित करने की तैयारी में है। इसके लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की विशेषज्ञ टीम का इंतजार किया जा रहा है।

यूजीसी की ओर से इस परीक्षा के लिए दी गई मान्यता 2017 में समाप्त हो गई थी, जिसके बाद अब नए सिरे से मान्यता प्राप्त करने की पूरी तैयारी है। यूजीसी के विशेषज्ञ दल के आने के बाद परीक्षा का शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा।

प्रदेश के विवि में होंगे तैनात

देश में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों की पात्रता के लिए यूजीसी की ओर से राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा आयाेजित की जाती है। राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली इस परीक्षा में राज्यों के औसतन कम अभ्यर्थी सफल हो पाते हैं, परिणामस्वरूप राज्यों के विश्वविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों के लिए पात्र अभ्यर्थी नहीं मिल पाते हैं।

इसको देखते हुए यूजीसी राज्यों को राज्य पात्रता परीक्षा आयोजित करने की अनुमति प्रदान करने के साथ ही संबंधित राज्य की ओर से तय विश्वविद्यालय को परीक्षा आयोजित करने के लिए तीन साल की मान्यता प्रदान करती है। 

2017 में हुई थी परीक्षा

पिछली बार कुमाऊं विवि की ओर से 2017 में यू-सेट परीक्षा आयोजित की गई थी जबकि कुमाऊं विवि पहली बार 2012 में और 2015 में भी यू-सूट परीक्षा आयोजित कर चुका है।

यू-सेट परीक्षा के प्रभारी प्रो पीसी कविदयाल के अनुसार विवि की ओर से परीक्षा आयोजित करने की तैयारी पूरी है, जैसे ही यूजीसी के विशेषज्ञों की टीम आएगी, उसके बाद परीक्षा को लेकर होमवर्क को अंतिम रूप दे दिया जाएगा।

कुलपति ने यूजीसी से साधा संपर्क

यूजीसी की टीम का परीक्षा को लेकर दौरा पिछले साल तय हो गया था, अक्टूबर माह में अतिवृष्टि की वजह से दौरा एकाएक रद हो गया था, दल के चार सदस्यों का आना तय था।

कुलपति प्रो एनके जोशी की ओर से यूजीसी में संपर्क कर फिर से विशेषज्ञ दल को जल्द भेजने का आग्रह किया गया है, विवि की ओर से औपचारिक अनुरोध पत्र भी भेजा गया है। रिमाइंडर भी भेजा गया है। प्रो कविदयाल के अनुसार इस साल भी विवि स्तर पर परीक्षा की तैयारी पूरी है।

2020 में उच्च शिक्षा मंत्री ने की थी घोषणा

2020 में उच्च शिक्षा मंत्री डा धन सिंह रावत ने नैनीताल में यू-सेट परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी कुमाऊं विवि को फिर से देने की घोषणा की थी। परीक्षा में कुल सफल अभ्यर्थियों में से छह प्रतिशत को अंतिम रूप से क्वालीफाइड किया जाता है।

सामान्य वर्ग को तीन पेपर में न्यूनतम 45 प्रतिशत जबकि ओबीसी को 40 प्रतिशत अंक लाने होते हैं। यू-सेट परीक्षा पास अभ्यर्थी ही राज्य के विश्विविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर आवेदन की पात्रता हासिल कर लेता है।

Edited By: Prashant Mishra