नैनीताल, जेएनएन : डीआइजी जगतराम जोशी ने कुमाऊं परिक्षेत्र में पंजीकृत गैंग और अपराधियों की पूरी जानकारी जुटाने व टीमें गठित कर उन्हें गिरफ्तार करने के निर्देश दिए। साथ ही सड़क हादसों में कमी लाने और तस्करी पर अंकुश के लिए नियमित चेकिंग अभियान चलाने को कहा। उन्होंने आपराधिक मामलों के निस्तारण में रुचि लेने वाले पुलिस कर्मियों को पुरस्कृत करने के निर्देश भी दिए।

गुरुवार को डीआइजी जगतराम जोशी ने अपने कार्यालय में मंडल के पुलिस अधिकारियों की बैठक में अपराध नियंत्रण व कानून व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने वाहन चोरी समेत चोरी की बढ़ती वारदातों पर नाराजगी जताते हुए अनावरण करने के सख्त निर्देश दिए। साथ ही किरायेदारों और बाहर से आए व्यापारियों का सत्यापन करने, नियमित वाहन चेकिंग करने, फरार अपराधियों की धरपकड़ के लिए टीमें गठित करने, सभी जनपदों में सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश को दिए।

बैठक में नैनीताल के एसएसपी सुनील कुमार मीणा, ऊधमसिंह नगर के बरिंदरजीत सिंह, अल्मोड़ा के प्रहलाद नारायण मीणा, बागेश्वर की एसपी प्रीति प्रियदर्शनी, पिथौरागढ़ के रामचंद्र राजगुरु, चंपावत के धीरेंद्र गुंज्याल आदि मौजूद रहे।

पहली दिसंबर से चलेगा आपरेशन स्माइल

कुमाऊं परिक्षेत्र में गुम हुए बच्चों की बरामदगी के लिए पुलिस पहली दिसंबर से विशेष अभियान चलाएगी। डीआइजी ने बताया कि मंडल में गुम हुए बच्चों और अज्ञात शवों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। एक दिसंबर से मंडल के सभी जिलों में ऑपरेशन स्माइल चलाया जाएगा।

एसआइ मंगल सिंह पुरस्कृत

समीक्षा बैठक में वनभूलपुरा थाने के एसआइ मंगल सिंह को पुरस्कृत किया गया। डीआइजी के अनुसार पहली सितंबर को हल्द्वानी गौलापार क्षेत्र में चेकिंग के दौरान एसआइ मंगल सिंह द्वारा 4.53 किग्रा स्मैक के साथ एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया। इस उपलब्धि के लिए मंगल को पुलिसमैन ऑफ द मंथ चुना गया। डीआइजी व एसएसपी ने उन्हें प्रशस्ति पत्र और एक हजार रुपये नगद इनाम देकर सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें : छात्राओं पर टिप्‍पणी के बाद हुए बवाल में छात्र नेताओं को जेल में गुजारनी पड़ी रात 

यह भी पढ़ें : सरकार का दावा, जहरीली शराब से छह मृतकों के परिजनों को दिए दो-दो लाख

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप