अल्मोड़ा, जेएनएन : राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत जिला चिकित्सालय में एंटी मॉडल रैबीज क्लीनिक स्थापित किया जाएगा। साथ ही मिशन के तहत जनपद में मातृ व शिशु स्वास्थ्य, परिवार नियोजन, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य व आशा कार्यक्रम, टीकाकरण, अवस्थापना मद, औषधि रसायन आदि गतिविधियों में 23.97 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

डीएम नितिन सिंह भदौरिया की अध्यक्षता में बुधवार को सायं कलक्ट्रेट के बहुद्देश्यीय सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक हुई। इसमें वर्ष 2020-21 के लिए एनएचएम के तहत होने वाले कार्यक्रमों के लिए बजट का अनुमोदन किया गया। डीएम ने कहा कि जिला चिकित्सालय में एंटी मॉडल रैबीज क्लीनिक स्थापित होने से रोगियों को इलाज की बेहतर सुविधा मिल सकेगी। उन्होंने आइसीयू के संचालन को ऑक्सीजन पाइपलाइन बिछाने को ग्रामीण निर्माण विभाग (आरडब्ल्यूडी) को कार्यदायी संस्था नामित कर तत्काल बजट हस्तांतरित करने के निर्देश दिए। डीएम ने आरडब्ल्यूडी को बेस चिकित्सालय में रैंप एवं साउंड पू्रफ रूम बनाने के निर्देश दिए।

 

रानीखेत में 1.71 करोड़ से बनेगा आइसीयू

मिशन के तहत रानीखेत नागरिक चिकित्सालय में कोविड-19 के मद्देनजर सघन चिकित्सा कक्ष (आइसीयू) का निर्माण भारत सरकार के उपक्रम एचएलएल संस्था बनाएगी। इसमें कुल 1.71 करोड़ रुपये की लागत आएगी। सभी चिकित्सा इकाइयों में से टी बरियल पिट्स बनाने की भी अनुमति दी गई। वहीं विभिन्न ब्लॉक में हेल्थ वेलनेस सेंटर भी बनाए जाएंगे। साथ ही आगामी राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के प्रतिरक्षण कार्यक्रम पर भी चर्चा की गई।

 

ये रहे मौजूद

सीएमओ डॉ. सविता ह्यांकी, एसीएमओ डॉ. अनिल ढींगरा, सीइओ एचबी चंद, सीएमएस डॉ. आरसी पंत, डॉ. एचसी गढ़कोटी, डॉ. दीपक गर्ब्याल, प्रोबेशन अधिकारी राजीवनयन तिवारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक दीप भट्ट, शासकीय अधिवक्ता पूरन सिंह कैड़ा आदि। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस