जागरण संवाददाता, नैनीताल : अतिसंवेदनशील बलियानाला के मुहाने पर भूस्खलन का सिलसिला थम नहीं रहा है। बलियानाला के मुहाने पर 24 घंटे के भीतर मंगलवार को फिर भारी भूस्खलन हो गया, जिससे कृष्णापुर जाने वाला मार्ग बंद हो गया। करीब पांच हजार की आबादी पर भी संकट आ गया है और उन्हें दूसरे रास्ते से जिला मुख्यालय आना पड़ रहा है। क्षेत्र में लगातार भूस्खलन से बढ़े खतरे को देखते हुए तल्लीताल पुलिस ने हरिनगर के समीप से गुजरने वाले रास्ते से राहगीरों को दूसरे रास्ते से भेजा। इसके लिए पुलिस ने मुनादी भी कराई। भूस्खलन से हरिनगर समेत हल्द्वानी रोड तक के वाशिंदों में दहशत है। पिछले कई दिनों से बलियानाला की पहाड़ी पर भूस्खलन हो रहा है। लगातार भूस्खलन से अब जीआइसी को भी खतरा पैदा होने लगा है। बीती रात्रि तेज बरसात के बाद कृष्णापुर जाने वाले मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया। मार्ग के क्षतिग्रस्त होने से सुबह कृष्णापुर से पैदल आने वाले स्कूली बच्चों व अन्य को दूसरे रास्ते से आना पड़ा। तल्लीताल थाने के एसआइ एमएस नयाल व अन्य पुलिस कर्मियों ने मौके पर जाकर लोगों को दूसरे रास्ते से भेजा। पुलिस ने नगर पालिका के अधिकारियों को सूचना दी कि दूसरा मार्ग काफी संकरा है, जिसके बाद पालिका के कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर रास्ते को ठीक किया। उसके बाद पैदल आने वाले स्कूली बच्चों व राहगीरों को राहत मिल सकी। दिनभर मौके पर पुलिस वहां तैनात रही। जिला प्रशासन ने लगातार भूस्खलन से वहां रह रहे 17 परिवारों को बीते रोज ही जीआइसी व जूनियर स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया था। मगर अब भी डेंजर जोन जीआइसी के मैदान के समीप चार परिवार रह रहे हैं। जीआइसी व जूनियर स्कूल में शिफ्ट किए गए परिवारों ने अपने-अपने टिनशेड खुद ही ध्वस्त कर दिए।