जागरण संवाददाता, अल्मोड़ा: patient on doli पहाड़ों में आज भी मोटरमार्ग और बदहाल रास्ते ग्रामीणों के लिए मुसीबत बने हुए हैं। बीमारों, गर्भवतियों, बुजुर्गों को मोटरमार्ग का दंश झेलना पड़ता है।

नौगांव में बीमार वृद्धा को स्थानीय युवा डोली में लेकर कई किमी दूर अस्पताल पहुंचे। मोटरमार्ग के अभाव से लगातार डोली ही बीमार और गर्भवतियों के लिए एकमात्र सहारा है।

कई रोगों से ग्रसित हैं वृद्ध

भैंसियाछाना ब्लाक के ग्राम सभा नौगांव तोक कुनखेत में 70 वर्षीय देवकी भंडारी अस्थमा रोगी है, इन दिनों वह पेट में सूजन और अन्य रोगों से ग्रसित हैं।

गुरुवार को मोटरमार्ग के अभाव में बीमार बुजुर्ग को कुनखेत से ग्रामीण युवा डोली के माध्यम से कनारीछीना लेकर पहुंचे। जिसके बाद कनारीछीना से वाहन के माध्यम से महिला को अस्पताल पहुंचाया गया। 

हाल ही में गर्भवती को लेकर गए थे अस्पताल

20 दिन पहले इसी रास्ते में एक और गर्भवती को डोली से धौलछीना अस्पताल लेकर पहुंचे थे। रास्ते की बदहाल स्थिति से लोग परेशान हैं। रीठागाड़ी दगड़ियो संघर्ष समिति के अध्यक्ष प्रताप सिंह नेगी, सामाजिक कार्यकर्ता कुंदन सिंह बोरा ने कई बार मोटरमार्ग निर्माण को गुहार लगाई है। लेकिन अब तक उनकी समस्याओं का निस्तारण नहीं हो सका है। 

यहां पर नहीं है सड़क

यह मार्ग कनारीछीना से कुनखेत, बड़ेत, सौनाखटक, पिपली, बखरिया छाना, लमगड़ा, चनोली, बैदीबगड़, पारखेत, सैंज तक के ग्रामीणों के लिए नहीं बल्कि पैदल रास्ता कनारीछीना से बागेश्वर जिले के सीमांत क्षेत्र को भी जोड़ता है।

Edited By: Prashant Mishra