जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : कोरोना काल में हेल्थ केयर वर्कर्स की भूमिका सबसे अहम है। बात चाहे कोविड अस्पतालों, कोविड केयर सेंटरों और जांच केंद्रों में ड्यूटी करने की हो या फिर वैक्सीनेशन अभियान की। हर जगह स्वास्थ्य कर्मी जी जान से जुटे हुए हैं। नैनीताल जिले में 300 हेल्थ केयर वर्कर ऐसे हैं जो पिछले छह माह से एक भी दिन छुट्टी लिए बिना लगातार वैक्सीनेशन अभियान को जारी रखे हुए हैं। इनमें डॉक्टर, एएनएम, आशा वर्कर, डेटा एंट्री ऑपरेटर, स्टाफ नर्स आदि शामिल हैं।

ढाई लाख की आबादी को लग चुका है टीका

जिले में बीते छह माह से चले टीकाकरण अभियान के तहत अब तक दो लाख 54 हजार 263 लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा चुकी है। जिले भर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, सरकारी अस्पताल, स्कूल-कॉलेजों में टीकाकरण चल रहा है।

हर दिन पांच हजार को लग रहा टीका

टीकाकरण अभियान में जुटे 300 हेल्थ केयर वर्कर्स के ऊपर जिले के करीब साढ़े नौ लाख की आबादी को टीका लगाने की जिम्मेदारी है। हर दिन क्षमता से अधिक पांच हजार लोगों को टीका लगाया जा रहा है।

इन्होंने नहीं ली छुट्टी

एएनएम, डॉक्टर, आशा वर्कर, डाटा इंटरी ऑपरेटर, स्टाफ नर्स, एमएसडब्ल्यू, कम्युनिटी मेडिसिन स्टाफ, आशा फैसिलिटेटर, ब्लॉक आशा कॉर्डिनेटर।

एसीएमओ नैनीताल डा. रश्मि पंत ने बताया कि वैक्सीनेशन अभियान को सुचारू रखने में जिले के करीब 300 हेल्थ केयर वर्कर जुटे हुए हैं। इनमें से किसी ने भी वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद से एक भी दिन छुट्टी नहीं ली है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें