हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : हार हो जाती है जब मान लिया जाता है, जीत तब होती है जब ठान लिया जाता है। एक साथ छह कर्मचारियों की जिम्मेदारी संभाल रहीं पूजा चंद्रा पर शकील आजमी का यह शेर सटीक बैठता है। नगर निगम हल्द्वानी में कर निरीक्षक के पद पर कार्यरत पूजा ने अपने काम के दम पर बेटियों के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे समाज के लिए मिसाल कायम की है।

पूजा की नगर निगम हल्द्वानी में बतौर कर निरीक्षक 2015 में नियुक्ति हुई। तब दो कर निरीक्षक कार्यरत रहे। डेढ़ साल पहले दूसरे कर निरीक्षक भरत त्रिपाठी को पदोन्नति पर दूसरी जगह भेज दिया गया। बाद में कर अधीक्षक बबीता का शिक्षा विभाग में चयन हो गया। पूजा की काबिलियत को देखते हुए नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया ने यह जिम्मेदारी भी उन्हें सौंप दी। नगर निगम के पुराने ढांचे के मुताबिक वर्तमान में चार कर निरीक्षक व दो कर अधीक्षक की जिम्मेदारी पूजा चंद्रा अकेले संभाल रही हैं। इसके अलावा लोक सूचना अधिकारी के तौर पर टैक्स व मार्केटिंग अनुभाग से संबंधित मामलों का निस्तारण करती हैं। 

चुनौती को अवसर के तौर पर लिया : पूजा

पूजा कहती हैं कि एक साथ कई जिम्मेदारी खुद पर आ जाने पर वह घबराई नहीं, बल्कि एक के बाद एक मिलती चुनौती को अवसर के तौर पर देखा। प्रत्येक कार्य के लिए कार्ययोजना तैयार कर समय बद्धता के साथ काम करती हैं। जरूरत पडऩे पर सीनियर से रायशुमारी करती हैं और अधीनस्थ स्टाफ का सहयोग लेती हैं। पूजा कहती हैं बेटियों के लिए कोई काम मुश्किल नहीं है। बेटियों को खुद पर भरोसा रखते हुए आगे बढऩा चाहिए। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप