काशीपुर, जेएनएन : Horror killing in kashipur : काशीपुर में बेटी और दामाद हत्याकांड मामले में पुलिस को अहम सफलता हाथ लगी है। सूत्रों की माने तो पुलिस ने आरोपित पिता -पुत्र को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस गुरुवार को मामले का खुलासा कर सकती है। पुलिस की दो टीमें आरोपियों की तलाश में यूपी के रामपुर और मुरादाबाद दबिश दे रही थीं।

काशीुपर मोहल्ला अल्लीखां निवासी मोहम्मद राशिद पुत्र कमरुद्दीन और पड़ोसी नाजिया पुत्री मुजम्मिल का काफी समय से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। अलग-अलग बिरादरी से होने के कारण नाजिया के पिता इस संबंध से नाखुश थे। करीब तीन माह पहले राशिद और नाजिया ने घर से भागकर नजीबाबाद जाकर निकाह कर लिया। इसके बाद वे रामपुर के अकबराबाद में रहने लगे। 15 दिन पहले नाजिया के पिता के कहने पर दोनों काशीपुर लौट आये थे और मोहल्ले में ही किराए के कमरे में रहने लगे थे।

 

सोमवार की रात राशिद अपनी पत्नी नाजिया को लेकर बाइक से लौट रहा था। इसी बीच घर के मोड़ पर ही चबूतरे पर बैठे नाजिया के पिता और भाई ने दो अन्य लोगों की मदद से उन्हें रोककर गाली-गलौच और तमंचे से गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के बाद से हत्यारोपी और उसका परिवार घर से फरार थे। पुलिस की दो टीमें टीमें आरोपियों की तलाश में यूपी के संभावित स्थानों पर दबिश दे रही थीं।

 

सूत्रों के मुताबि मुख्या आरोपित लड़की के पिता मुजम्मिल और भाई मोहसिन को काशीपुर के लोहिया पुल के पास से पुलिस टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। मामले में अन्य आरोपितों अफसर अली और जौहर अली की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है।

 

यूपी भागना भी नहीं आया काम

सूत्रों की माने तो डबल मर्डर के दाे मुख्य आरोपित हत्या के बाद यूपी भागने में सफल रहे थे। लेकिन पुलिस की ताबातोड़ दबिश के कारण वहां टिक न सके। सूत्रों की माने ताे बुधवार को पुलिस को एक मुखबिर से इनके काशीपुर के लोहिया के पास होने की जानकारी मिली जिसके बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस टीम ने हिरासत में ले लिया।

 

असलहे की बरामदगी में जुटी पुलिस

हत्याकांड में प्रयुक्त हथियार की बरामदगी के लिए पुलिस टीम जुट गई है। वारदात के बाद हथियार को रास्ते में ठिकाने लगाने का प्रयास किया है। पुलिस हथियार के बरामदगी के लिए बुधवार को प्रयास करती रही। बताया जा रहा है कि 315 बोर कट्टे का इस्तेमाल किया था। आरोपितों को हथियार मुहैया कराने वालों की भी तलाश की जा रही है।

 

पुलिस से बचने के लिए बदले फोन

सूत्रों की माने तो पुलिस से बचने के लिए इन लोगों ने फोन भी बदल दिए थे। पुलिस ने आरोपितों के संपर्क में रहे लोगों को उठाकर पूछताछ की लोकेशन पता चल गया। पिछले दो दिनों में इन लोगों ने कई ठिकाने बदलने का प्रयास भी किया, लेकिन लोहिया पुल के पास पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस