नैनीताल/भवाली, जेएनएन : कोरोना लॉकडाउन, फिर अनलॉक-टू के करीब सौ दिन बाद नयना देवी मंदिर, कैंची धाम व अन्य बंद धार्मिक स्थल को आज से श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। पहले दिन नैनीताल में श्रद्धालुओं की संख्या बेहद कम नजर आई। गुरुद्वारा में गुरुवाणी का पाठ किया गया। नयना देवी मंदिर में थर्मल स्क्रीनिंग, सेनेटाइज करने के बाद ही भक्तों को प्रवेश दिया जा रहा है। घंट-घड़ियाल बजाने की अनुमति नहीं है। उन्हें ढककर रखा गया है। भक्त माता के दरबार में हाथ जोड़ने की अनुमति मिलने से ही खुश हैं । वहीं विश्व प्रसिद्ध कैंचीधाम और जागेश्वरधाम भी श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खाेल दिया गया है।

धार्मिक स्थलों में कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करना होगा। विभिन्न धर्म प्रतिनिधियों ने बैठक के बाद यह निर्णय लिया। मंगलवार को नयना देवी मंदिर परिसर में विभिन्न धर्म प्रतिनिधियों की बैठक की गई थी। इस दौरान धार्मिक स्थलों को खोलने और गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए इनके संचालन को लेकर विचार विमर्श किया गया। तय हुआ कि पहली जुलाई से नयना देवी मंदिर, हनुमानगढ़ी मंदिर, गुरुद्वारा और गिरजाघर भक्तों के लिए खोल दिए जाएंगे। जबकि शहर की दोनों मस्जिद शनिवार को खोली जाएंगी। इधर, शनि मंदिर और पाषाण देवी मंदिर संचालकों ने कहा कि मंदिरों के व्यवस्थागत संचालन में परेशानियां हैं। मंदिर प्रबंधन इतना समृद्ध भी नहीं है कि अन्य व्यवस्थाएं जुटा पाएं। जिला प्रशासन से वार्ता के बाद ही मंदिर खोलने को लेकर निर्णय लिया जाएगा।

 

नयना देवी अमर उदय ट्रस्ट अध्यक्ष राजीव लोचन साह ने कहा कि गाइडलाइन के आधार पर मंदिर में सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद कर दी गई है। श्रद्धालु शारीरिक दूरी और गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए ही दर्शन कर पाएंगे। सुबह सात से 11 और शाम तीन से सात बजे तक मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खुला रहेगा। वहीं, भवाली स्थित कैंची धाम बुधवार से भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिए जाएगा। यह जानकारी कैंची धाम के प्रबंधक विनोद जोशी ने दी। उन्होंने बताया कि बुधवार से नौ बजे सुबह से शाम पांच बजे तक भक्त बाबा के दर्शन कर सकेंगे।

 

गिरिजा देवी मंदिर 15 जुलाई तक रहेगा बंद

रामनगर का प्रसिद्ध गिरिजा मंदिर लॉकडाउन के चलते गत मार्च माह में श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया था। मंगलवार को मंदिर समिति के पदाधिकारियों में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। मंदिर समिति के सचिव डा. देवीदत्त दानी ने बताया कि चर्चा के बाद तय हुआ कि कोरोना संक्रमण के केस लगातार बढ़ रहे है। बरसात का मौसम होने की वजह से कोसी नदी में बाढ़ का खतरा भी बना है। ऐसे में फिलहाल 15 जुलाई तक गिरिजा मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए बंद रखा जाएगा। इसके बाद स्थिति के अनुसार मंदिर को खोलने पर विचार किया जाएगा। उधर हनुमान सेवा ट्रस्ट के राष्ट्रीय महासचिव राजीव अग्रवाल ने बताया कि पाच जुलाई से हनुमान धाम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा। इस दौरान शारीरिक दूरी का पूरी तरह पालन कराया जाएगा।

भारतीय सीमा पर 89 नई बीओपी चौकी खोलेगा नेपाल, 10 हजार जवानों से बढ़ाएगा चौकसी   

चारधाम देवस्थानम बोर्ड के खिलाफ हाईकोर्ट में दायर स्‍वामी की याचिका पर सुनवाई जारी 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस