हल्द्वानी, जेएनएन : विद्यार्थियों का रुझान योग विषय को लेकर बढ़ रहा है। यही कारण है कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में ही देश भर के 14 राज्यों के 2500 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। यहां तक कि नेपाल के विद्यार्थी भी शामिल हैं। वहीं कोविड-19 के चलते इन विद्यार्थियों की परीक्षा कराने को लेकर असमंजस बना हुआ है।

योग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. भानु जोशी का कहना है कि अगर विद्यार्थी इसी राज्य होते तो विश्वविद्यालय स्तर पर परीक्षाओं को लेकर कोई निर्णय लिया जा सकता था, लेकिन यहां पर 14 राज्यों के 70 फीसद विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। इसमें सबसे अधिक संक्रमण वाले राज्यों के विद्यार्थी भी शामिल हैं। इन विद्यार्थियों ने योग विषय में सार्टिफिकेट, डिप्लोमा, डिग्री और पीएचडी में प्रवेश लिया है।

 

इन राज्यों के हैं विद्यार्थी

योग विभाग में अध्ययनरत विद्यार्थियों में उत्तराखंड मूल के केवल 30 फीसद हैं। शेष विद्यार्थी हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हिमाचल, चंडीगढ, महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, असम, मेघालय, त्रिपुरा, अरूणाचल प्रदेश व बिहार के हैं। योग विषय में विद्यार्थियों का प्रदर्शन भी शानदार है। वर्ष 2018-19 में इसी विश्वविद्यालय के 154 योग विद्यार्थियों ने यूजीसी नेट क्वालिफाई किया।

हाईकोर्ट ने पूछा, केदारनाथ में शवों को ढूंढने को कौन से वैज्ञानिक तरीके इस्तेमाल किए जा सकते हैं 

अलकायदा एजेंट इनामुल का उत्तराखंड से भी कनेक्शन, पुलिस व खुफिया एजेंसियां कर सकती हैं पूछताछ

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस