रामनगर, जेएनएन : वन मंत्री हरक सिंह रावत ने बैलपड़ाव चूनाखान में तीन दिवसीय उत्तराखंड बर्ड फेस्टिवल का शुक्रवार को शुभारंभ किया। इस दौरान वन मंत्री ने महिला स्वयं सहायता समूह व स्थानीय लोगों द्वारा लगाए गए विभिनन स्टालों का निरीक्षण किया। उन्होंने बच्चों के साथ वॉल पेंटिंग भी बनाई। इसके साथ बच्‍चों की ओर से लगाई गई पोस्टर प्रदर्शनी भी देखी।

पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

वन मंत्री ने कहा कि इको पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इसका लाभ पर्यटन को मिलेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में साढ़े छह सौ पक्षियों की मौजूदगी है। वर्ष 2014 में आसाम कंजर्वेशन रिजर्व से बर्ड फेस्टिवल का शुभारम्भ हुआ। वर्ष 2015 में दूसरा फेस्टिवल हुआ था। वन जीवों व पक्षी के प्रति प्यार बढ़े। लोगों को इको पर्यटन से जोड़ा जा सके। इस दौरान मुख्य वन्य जीव सरंक्षक राजीव भरतरी, सीसीएफ विवेक पांडे, सीएफ मधुकर धकाते, सीटीआर निदेशक राहुल, डीएफओ नीतीश मणी त्रिपाठी, यूसी तिवारी मौजूद रहे।

यह होने हैं फेस्टिवल के तहत आयोजन

बैलपड़ाव चूनाखान में शुरू हुए फेस्टिवल का मकसद लोगों को पक्षी पर्यटन से जोडऩा है। इस दौरान पक्षियों को लेेकर कार्यशाला होगी। पक्षी विशेषज्ञों व अन्य टीमों द्वारा क्यारी, पवलगढ़ व कालाढूंगी में बर्ड वॉचिंग की जाएगी। छात्र-छात्राओं के लिए चित्रकला एवं पोस्टर प्रतियोगिता के साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। दूसरे दिन स्थानीय व्यंजनों के स्टाल लगाए जाएंगे। तराई पश्चिमी वन प्रभाग व रामनगर वन प्रभाग कार्यक्रम के आयोजक हैं।

यह भी पढ़ें : बागेश्‍वर में तेंदुओ ने दुकानदार पर किया हमला, रानीखेत में पेड़ से उतार किया ट्रेंकुलाइज

यह भी पढ़ें : नाबालिग किशोरी को भगाने का आरोपित युवक बाजपुर कोतवाली से हथकड़ी समेत फरार आरोपित

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस