संस, रामनगर : पीरूमदारा में गुरुद्वारा के पास रेलवे विभाग द्वारा बनाए जा रहे अंडरपास को लेकर विरोध के स्वर उठने लगे हैं। गुरुवार को ग्रामीणों की बैठक में इस पर रोक लगाने की मांग की गई। ग्रामीणों ने कहा कि अंडरपास की ऊंचाई कम होने से स्कूल की बसों के साथ ही अन्य बड़े वाहनों को इसके अंदर से गुजरना मुश्किल पड़ेगा। ऐसे में अंडरपास बनाने की सार्थकता नहीं रह जाएगा। ग्रामीणों ने कहा कि पूर्व की व्यवस्था को ही लागू रखा जाए। इसके तहत रेलवे पटरी के ऊपर से पुल का निर्माण किया जाए या फिर रेलवे क्रॉसिंग से ही आवागमन रखा जाए। रेलवे पटरी के ऊपर से पुल बनाने पर खुले स्पेस होने से दिक्कतें पेश नहीं आएंगी। वहीं ग्रामीणों के टै्रक्टर आदि वाहन भी आसानी से इधर से उधर जा पाएंगे। उन्हेांने कहा कि जनहित के लिहाज से इंडरपास बनाना ठीक नहीं है। इसलिए अन्य दो विकल्पों पर गौर करते हुए व्यवस्था में सुधार किया जाए।

गुरुवार को पीरूमदारा स्थित गुरुद्वारा में जिला पंचायत सदस्य नरेन्द्र चौहान की अध्यक्षता में बैठक हुई। ग्रामीणों का कहना था कि रेलवे विभाग द्वारा पीरूमदारा में रेलवे फाटक नंबर 46 बी पर आवाजाही के लिए अंडरपास बनाया जा रहा है। अंडरपास छोटा होने की वजह से स्कूल की बसों, बड़े वाहनों व गन्ने के भरे वाहनों का आवागमन नहीं हो पाएगा। रेलवे पटरी के ऊपर से पुल का निर्माण किया जाए या फिर रेलवे क्रॉसिंग से ही आवागमन रखा जाए। बैठक में बीडीसी सदस्य महावीर सिंह रावत, प्रधान मुकेश सिंह रावत, राकेश चौहान, आलोक गुसाई, डीएस नेगी, अमरजीत सिंह, जसकरन सिंह, निर्मल सिंह, बलराम सिंह सहित कई ग्रामीण मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस