मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

हल्द्वानी, जेएनएन : कुमाऊं भर में शनिवार रात से भारी बारिश का क्रम जारी है। सीमांत पिथौरागढ़ जनपद में भारी बारिश ने तबाही मचाई है। मुनस्यारी तहसील के धापा गांव में पहाड़ी से बोल्डरों की बरसात होने पर दस परिवारों ने घर छोड़ दिया। उन्हें सहकारिता भवन में ठहराया गया है। वहीं धारचूला में जीप पर बोल्डर गिरने से दो सवार घायल हो गए। एक की हालत गंभीर बनी हुई है। 

चम्पावत जनपद में रविवार को ऑलवेदर रोड में टनकपुर से चम्पावत के बीच कई स्थानों पर मलबा आने से मार्ग बंद रहा। दिन भर कार्यदायी कंपनी के कर्मचारी राजमार्ग से मलबा हटाने में जुटे रहे। मार्ग बंद होने से यात्रियों ने देवीधुरा, हल्द्वानी के रास्ते सफर किया। बागेश्वर जिले में एक दर्जन से अधिक सड़कों पर मलबा आने से आवागमन बंद रहा। तीन मकान ध्वस्त हो गए हैं। बारिश के बाद रविवार को गोमती उफन गई और सरयू का जलस्तर भी बढ़ रहा है। अल्मोड़ा जिले में भी एक दर्जन आतंरिक मोटर मार्गों पर मलबा आने से आवागमन पूरी तरह बंद रहा। वहीं हल्द्वानी-अल्मोड़ा हाईवे पर गरमपानी के समीप मलबा आने और पहाड़ी से भूस्खलन के चलते करीब एक घंटे यातायात ठप रहा। 

नैनीताल जिले में दो राज्य मार्ग समेत 11 ग्रामीण सड़कें बरसात में मलबा आने से बंद हैं। सिल्टोना-बजेठी ग्रामीण मार्ग तीसरे दिन भी नहीं खुल पाया है। रामनगर निर्माण खंड के अधीन आने वाले गर्जिया-बेतालघाट व कोशीबैराज-तल्ली सेठी राज्य मार्ग मलबा आने से यातायात के लिए बंद हैं। नैनीताल तहसील के सौड़ पट्टी में गोपाल सिंह के आवास को बरसात से आंशिक क्षति पहुंची है। सोमवार सुबह गौला बैराज का जलस्तर 3700 क्यूसेक व कोसी बैराज का 10346 क्यूसेक रिकॉर्ड किया गया। बीते 24 घंटे में नैनीताल में 79 मिमी, हल्द्वानी में 53 मिमी बारिश दर्ज की गई। जिले में रुक-रुककर हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित है। अलबत्ता बिजली व पेयजल आपूर्ति सुचारू है।

कुमाऊं के सभी जिलों में आज स्कूल बंद 

भारी बारिश की चेतावनी के मद्देनजर कुमाऊं के सभी छह जिलों में सोमवार को 12वीं तक के निजी व सरकार विद्यालय तथा आंगनबाड़ी केंद्र बंद रहेंगे। अल्मोड़ा, चम्पावत, पिथौरागढ़, नैनीताल, ऊधमसिंह नगर व बागेश्वर जिले के जिलाधिकारियों ने सभी विभागों से अलर्ट मोड पर रहने और लोगों से एहतियात बरतने की अपील की है। 

यात्रा मार्ग में भूस्खलन से कैलास यात्रा का 17वां दल रोका
धारचूला(पिथौरागढ़): कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग भारी भूस्खलन के चलते बंद हो गया है। मार्ग बंद हो जाने से 17 वें दल के यात्रियों के साथ ही आदि कैलास यात्रियों को रोक दिया गया है। मार्ग खुलने के बाद यात्रा आगे बढ़ेगी। रविवार को भारी बारिश से लामारी के पास भूस्खलन हो गया। जिससे कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग मलबा आने से बंद हो गया। यात्रा पर जा रहे 17 वें दल के आधे यात्रियों को छंकन और आधे दल को मालपा में रोका गया है। इस दल के यात्रियों को रविवार को गुंजी पहुंचना था। शनिवार को भी मार्ग बंद हो जाने के कारण दल को पांगला पड़ाव की जगह गाला में ही रुकना पड़ा था। वहीं यात्रा पूरी कर लौट रहे आदि कैलास के दल को भी मालपा में ही रोक लिया गया है। 

भीमताल झील लबालब, सुरक्षा दीवार धंसी 
भीमताल : शनिवार रात से लगातार हो रही बरसात के चलते भीमताल झील लबालब हो गई है। झील के चारों ओर बनी सुरक्षा दीवार कुछ स्थानों पर धंस गई है। जिससे कई विद्युत पोलों को खतरा पैदा हो गया है। झील के सारे गेट खोल कर 60 क्यूसेक पानी गौला नदी में छोड़ा जा रहा है। डैम का जलस्तर अधिकतम क्षमता 41 फिट तक पहुंच गया है। सिंचाई विभाग के मुताबिक शनिवार देर रात से सुबह नौ बजे तक 105 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई है। जो पांच साल में सर्वाधिक है।  

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप