हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : हल्‍द्वानी व आसपास के 15 नलकूपों का जलसंस्थान आटोमाइजेशन करने जा रहा है। इससे नलकूपों का संचालन आटोमैटिक होने के साथ ही मोटर व पंप फुंकने की समस्या भी दूर हो जाएगी। करीब 75 हजार की आबादी को इससे फायदा पहुंचेगा। शासन से इसके लिए पहली किश्त मिलते ही जलसंस्थान ने कार्यवाही शुरू कर दी है। इस माह के अंत तक कागजी औपचारिकताएं पूरी कर आटोमाइजेशन का काम शुरू करा दिया जाएगा। 

वर्ष 2019 में सिंचाई विभाग से 21 नलकूप जलसंस्थान को हस्तांतरित हुए थे। ये नलकूप वे थे, जिनका 50 से 90 फीसद तक पानी जलसंस्थान पेयजल के लिए प्रयोग करता है। हल्द्वानी ग्रामीण (लालकुआं) डिवीजन खुलने के बाद इनमें से छह नलकूप उन्हें हस्तांतरित हो गए। पिछले साल तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हल्द्वानी के 15 नलकूपों का आटोमाइजेशन करने की घोषणा की थी। इसके बाद जलसंस्थान ने 2.59 करोड़ रुपये का प्रस्ताव शासन को भेजा था।  

अधिशासी अभियंता संजय श्रीवास्तव ने बताया कि शासन ने सभी 15 नलकूपों में सर्वो वोल्टेज स्टेबलाइजर, कंट्रोल पैनल व पंपिंग प्लांट लगाने के लिए आदेश दिए हैं। इसके साथ ही 1.03 करोड़ रुपये की पहली किश्त भी जारी कर दी है। 

पहले चरण में 50 लाख रुपये से नए मोटर-पंप सेट और शेष धनराशि से सर्वो वोल्टेज स्टेबलाइजर, कंट्रोल पैनल खरीदे जाएंगे। उन्होंने बताया कि खरीदारी के लिए कंपनी तय करने का प्रस्ताव मुख्यालय को भेज दिया गया है। इस माह के अंत तक सभी कागजी औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएंगी और मई में काम पूरा कर नलकूपों का संचालन शुरू हो जाएगा।

अधिशासी अभियंता ने बताया कि नलकूपों का आटोमाइजेशन होने से इनके फुंकने और मैनुअल तरीके से संचालन की समस्या का समाधान होगा। इसके साथ ही नलकूप संचालन की हर गतिविधि की जानकारी उन्हें कार्यालय में बैठे-बैठे आनलाइन उपलब्ध हो जाएगी। 

इन नलकूपों का होगा आटोमाइलेशन 

लोहरिसाल मल्ला, भगवानपुर जय सिंह, जज फार्म, बिष्ट धड़ा, चौसला, हिम्मतपुर मल्ला, रामड़ी जसवा, लोहरियासाल तल्ला, पनियाली, कुसुमखेड़ा, घुनी नंबर एक, देवपुर कुरिया, नरसिंह मल्ला, हिम्मतपुर तल्ला, पीपलपोखरा नंबर एक 

छड़ायल नयाबाद नलकूप से बढ़ेगा संचालन 

छड़ायल नयाबाद क्षेत्र में जलसंस्थान ने नलकूप का संचालन दो घंटा बढ़ाने का अनुरोध सिंचाई विभाग से किया है। अधिशासी अभियंता संजय श्रीवास्तव ने बताया कि गर्मी शुरू होने से इस नलकूप से जड़े क्षेत्रों में पानी की मांग बढ़ गई है, जिससे जलसंकट की समस्या आ रही है। इसके लिए सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता नलकूप खंड को पत्राचार किया गया है। 

हिम्मतपुर तल्ला व बिष्ट धड़ा नलकूप अब भी खराब 

हिम्मतपुर तल्ला व बिष्ट धड़ा नलकूप की मोटर फुंकने से 10 हजार परिवारों में जलसंकट बरकरार है। बिष्ट धड़ा नलकूप के पाइपों के लिए फ्लेंज आने पर इसकी वेल्डिंग की जा रही है। अधिशासी अभियंता ने बताया कि हिम्मतपुर तल्ला नलकूप की जल्द मरम्मत कर जलापूर्ति शुरू करने के लिए सिंचाई विभाग के अफसरों से लगातार संपर्क साधा जा रहा है! 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप