हल्द्वानी, जेएनएन : राज्य में बेसिक शिक्षा में आदर्श विद्यालयों की संख्या बढ़ेगी। 128 प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों को आदर्श विद्यालय का तमगा मिलेगा। प्रत्येक विकासखंड में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय को आदर्श विद्यालय बनाया जाएगा। शिक्षा महकमे ने इसकी कवायद शुरू कर दी।

अब तक चल रही है ये व्‍यवस्‍था

अब तक की व्यवस्था के अनुसार प्रत्येक विकासखंड में दो प्राथमिक, एक जूनियर हाईस्कूल और दो इंटर कॉलेजों को आदर्श बनाया गया था। इन विद्यालयों को विभाग मानवीय और भौतिक संसाधनों से परिपूर्ण करता है। लेकिन, अब प्रत्येक विकासखंड में बेसिक शिक्षा में आदर्श विद्यालयों की संख्या बढ़ेगी। 13 जिलों में 95 प्राथमिक तो 33 उच्च प्राथमिक विद्यालय आदर्श कहलाएंगे।

स्‍कूलों को परखा जाएगा

आदर्श विद्यालय बनने के लिए भी स्कूलों को कुछ शर्तों से परखा जाएगा। चार बिंदुओं पर प्रत्येक विद्यालय को खरा उतरना होगा। विद्यालय की छात्र संख्या अधिक होनी चाहिए। विद्यालय द्वारा अधिक से अधिक जनसंख्या को लाभ मिलता हो। विद्यालय की मोटर मार्ग से दूरी कम हो और उसके पास पर्याप्त भूमि-भवन होना चाहिए। उत्तराखंड प्रारंभिक शिक्षा अपर निदेशक वीएस रावत ने इस संबंध में 13 जिलों के जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) को पत्र जारी किया है।

कहां कितने आदर्श विद्यालय होंगे

जिला           प्राथमिक                   उच्च प्राथमिक

अल्मोड़ा       11                          04

बागेश्वर       03                          01

चमोली         09                          03

चम्पावत      04                          01

पौड़ी           15                           05

हरिद्वार       06                          02

देहरादून       06                          02

पिथौरागढ़    08                          03

टिहरी          09                          03

रुद्रप्रयाग     03                           01

यूएस नगर    07                         03

उत्तरकाशी    06                        02

नैनीताल      08                         03

यह भी पढ़ें : बीएससी फर्स्‍ट सेमेस्टर के फिजिक्‍स का तय तिथि पर प्रैक्टिल न होने पर एचओडी से मांगी रिपोर्ट

यह भी पढ़ें : फारेस्ट गार्ड के लिए आयोजित राज्य की सबसे बड़ी भर्ती परीक्षा से 56 हजार अभ्यर्थी गायब

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस