हरिद्वार, [जेएनएन]: केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल भेल हरिद्वार के प्रमुख कमांडेंट टीएस रावत की पुत्री मालविका रावत ने भारतीय सेना में अधिकारी बन कर उत्तराखंड का मान बढ़ाया है।

चेन्नई स्थित आफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में 49 सप्ताह के कड़े प्रशिक्षण के बाद मालविका रावत भारतीय सेना का हिस्सा बन गई। ओटीए चेन्नई में भव्य पासिंग आउट परेड में मालविका रावत के साथ 213 पुरुष और 40 महिला कैडेट्स पास आउट हुए। मालविका रावत ने टेक्निकल एंट्री से चयनित होकर आफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में ज्वाइन किया। मूल रूप से पौड़ी जिले के पाली पट्टी लंगूर गांव निवासी मालविका वर्तमान में परिवार संग रुड़की में रहती हैं।

मालविका ने केंद्रीय विद्यालय चंबा-2 (हिमाचल प्रदेश) से 10वीं और 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद ग्राफि‍क एरा विश्वविद्यालय देहरादून से बीटेक किया। इसके बाद उन्होंने 2017 में सेना की टेक्निकफेंट्री एवं भारतीय वायु सेना की परीक्षा दी। मालविका अपने पहले ही प्रयास में दोनों विभागों में सर्विस सलेक्शन बोर्ड की ओर से चयनित हो गई।

मालविका ने बताया कि उनके दादा जी विजय सिंह रावत भी भारतीय सेना में अधिकारी थे।इसलिए उन्होंने भारतीय वायु सेना की जगह भारतीय थल सेना को चुना। मालविका रावत के पिता टीएस रावत व माता मंजू रावत मालविका के पासिंग आउट परेड में शामिल हुए और पुत्री को बैज लगाकर गौरवपूर्ण पलों के साक्षी बने। भेल हरिद्वार हीप इकाई के महाप्रबंधक संजय गुलाटी ने पूरे भेल परिवार की ओर से मालविका रावत को शुभकामनाएं दी हैं।

यह भी पढ़ें: सिख रेजीमेंट में लेफ्टिनेंट बना भिकियासैण का लाल

यह भी पढ़ें: भारतीय सेना को मिले 383 युवा अधिकारी, सात मित्र देशों के 74 कैडेट भी हुए पास आउट

यह भी पढ़ें: भारतीय सैन्य अकादमी में 40 कैडेट को मिली जेएनयू की डिग्री